Home /News /jharkhand /

गुमला: प्रसूता की मौत से भड़के परिजनों ने किया हंगामा, डॉक्टरों पर लापरवाही का लगाया आरोप

गुमला: प्रसूता की मौत से भड़के परिजनों ने किया हंगामा, डॉक्टरों पर लापरवाही का लगाया आरोप

गर्भवती महिला की डिलिवरी के दौरान मौत होने पर उसके परिजनों ने डॉक्टर और अस्पताल प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए कड़ी कार्रवाई करने की मांग की

गर्भवती महिला की डिलिवरी के दौरान मौत होने पर उसके परिजनों ने डॉक्टर और अस्पताल प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए कड़ी कार्रवाई करने की मांग की

Jharkhand News: गर्भवती महिला सोनी खातून की मौत के बाद गुस्साए उसके परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन और डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया. लोगों को आक्रोश को देख कर डॉक्टर और पदाधिकारी अस्पताल से भाग खड़े हुए. सूचना मिलने पर वहां पहुंची पुलिस ने परिजनों को समझा-बुझाकर शांत करवाया. इसके बाद परिजन दोनों शवों को अपने साथ ले जाने को राजी हुए

अधिक पढ़ें ...

    (रुपेश कुमार भगत)

    गुमला. झारखंड के गुमला सदर अस्पताल (Gumla Civil Hospital) में प्रसूता महिला और उसके नवजात बच्चे की मौत का मामला सामने आया है. जच्चा-बच्चा की मौत (Pregnant Woman Death) के बाद गुस्साए परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन और डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया. लोगों को आक्रोश को देख कर डॉक्टर और पदाधिकारी अस्पताल से भाग खड़े हुए. सूचना मिलने पर वहां पहुंची पुलिस ने परिजनों को समझा-बुझाकर शांत करवाया. इसके बाद परिजन दोनों शवों को अपने साथ ले जाने को राजी हुए.

    मिली जानकारी के मुताबिक रायडीह प्रखंड के बरगी डांड़ निवासी हैदर अली अपनी विवाहिता बेटी सोनी खातून को प्रसव पीड़ा होने के बाद मंगलवार को सदर अस्पताल लेकर पहुंचे थे. इस दौरान ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर ने सोनी खातून की जांच करने के बाद डिलिवरी के लिए बड़ा ऑपरेशन करने की बात कही. कई घंटे इंतजार करवाने के बाद शाम के लगभग चार बजे गर्भवती महिला को ऑपरेशन के लिए ओटी में ले जाया गया. ऑपरेशन थियेटर के बाहर महिला की मां सकीरन खातून, मौसी नजीरन खातून, पिता हैदर अली और उसका पति अर्जुन खान खुशखबरी के इंतजार में बैठे रहे. मगर तकरीबन दो घंटे बीतने पर भी उन्हें कोई भी सूचना नहीं मिली तो वो चिंतित हो उठे. महिला के परिजनों ने उसका हाल जानने के लिए ओटी में घुसने का प्रयास किया तो वहां मौजूद नर्स और डॉक्टर पूनम ने उन्हें रोक दिया. परिजनों के काफी गुहार लगाने के बाद अंत में उन्हें ओटी में जाने दिया गया.

    ऑपरेशन थियेटर में प्रसूता का शरीर निर्जीव पड़ा था

    ओटी के अंदर जाने पर परिजनों ने देखा कि सोनी खातून की सांसें नहीं चल रही हैं. उसके नाक में ऑक्सीजन पाइप डाला हुआ था. हैदर अली ने नब्ज टटोलने की कोशिश की तो उन्होंने पाया कि उनकी बेटी के शरीर में कोई हरकत नहीं हो रही. एक अंजानी सी आशंका को भांप कर वो सब चीखने-चिल्लाने लगे. तब डॉक्टर पूनम ने प्रसूता को रांची रेफर करने की बात कहकर उन्हें डिस्चार्ज पर्ची थमा दी. यह देख महिला के परिजन भड़क उठे और उन्होंने हंगामा खड़ा कर दिया.

    सोनी के पिता हैदर अली ने कहा कि जब उनकी बेटी अस्पताल लाई गई थी तो बिल्कुल स्वस्थ थी. उन्होंने आरोप लगाया कि डॉक्टरों और अस्पताल की लापरवाही के चलते उसकी और उसकी नवजात बच्चे की मौत हुई है. जच्चा-बच्चा की मौत की सूचना के बाद बड़ी संख्या में उनके रिश्तेदार अस्पताल पहुंचे और उन्होंने जमकर हंगामा मचाया. सभी का रो-रो कर बुरा हाल था. उन्होंने डॉक्टर और अस्पताल प्रबंधन पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की.

    Tags: Gumla news, Jharkhand news, Woman delivery

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर