होम /न्यूज /झारखंड /दोषी कौन- हाथी या हम? इक हाथी की जान आज इंसानों ने ली है, चुप क्यों है वन विभाग

दोषी कौन- हाथी या हम? इक हाथी की जान आज इंसानों ने ली है, चुप क्यों है वन विभाग

ग्रामीणों के द्वारा खेत मे लगाए गए करेंट के चपेट में आने से जंगली हाथी की मौत

ग्रामीणों के द्वारा खेत मे लगाए गए करेंट के चपेट में आने से जंगली हाथी की मौत

Gumla News: झारखंड के गुमला के वनटोली गांव में जंगली हाथियों ने तांडव मचा रखा हुआ है. इन हाथियों से अपनी फसलों को बचाने ...अधिक पढ़ें

गुमला. बढ़ते शहरीकरण के दौर में देश से जंगलों की संख्या सीमित होती जा रही है. ऐसे में जंगल में रहने वाले जंगली-जानवर अपना ठांव खोजने के लिए रिहायशी इलाकों की तरफ चले आते हैं. जंगलों के आसपास के गांवों में अक्सर हाथी और अन्य जानवरों के आतंक की खबर सामने आती रहती है. झारखंड के गुमला के वनटोली गांव में भी जंगली हाथियों ने तांडव मचा रखा है. इन हाथियों से अपनी फसलों को बचाने के लिए ग्रामीणों ने खेत में करंट का जाल बिछा रखा है. इसी करंट की चपेट में आने से एक जंगली हाथी की मौत हो गई.

बताया जा रहा है कि पहले भी इसी जगह पर एक हाथी की करेंट लगने से मौत हो गई थी. यह दूसरी घटना है जब बिजली के करेंट से हाथी की मौत हुई है. इस घटना से वन विभाग की लापरवाही भी साफ तौर पर दिख रही है. जानकारी के मुताबिक, इस क्षेत्र में पिछले एक महीने से जंगली हाथियों ने उत्पात मचा रखा हुआ था. ग्रामीणों द्वारा लगातार वन विभाग से हाथियों को भगाने की मांग की जा रही थी. लेकिन  सूचना मिलने के बाद भी वन विभाग ने इस क्षेत्र से हाथियों को भगाने की कोशिश नहीं की. नतीजन, आज हाथ की मौत की दूसरी घटना देखने को मिली. हाथियों से अपनी फसलों को बचाने के लिए मजबूरी में किसानों को अपने खेतों में बिजली का करंट लगाना पड़ता है.

घटना की सूचना मिलने के बाद वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे. हाथी का पोस्टमार्टम कराने के बाद उसे दफनाने की प्रक्रिया की गई. डीएफओ श्रीकांत ने बताया कि ग्रामीणों के द्वारा खेत में बांस के सहारे बिजली का तार लगाया गया था, जिसकी चपेट में आने से जंगली हाथी की मौत हुई है. वन विभाग के द्वारा लोगों को चिन्हित कर लिया गया है. जल्द ही उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

Tags: Elephants, Jharkhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें