16 साल पहले लापता बेटा संन्यासी बन पहुंचा घर, पहले 10 हजार फिर साढ़े 3 लाख रुपए मांगे तो खुली पोल

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है.

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है.

झारखंड (Jharkhand) के हजारीबाग (Hajaribag) के टाटीझरिया प्रखंड के झरपो गांव में संन्यासी बनकर एक परिवार के साथ ठगी का मामला. घरवालों की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2021, 12:03 PM IST
  • Share this:

हजारीबाग. झारखंड (Jharkhand) के हजारीबाग (Hajaribag) के टाटीझरिया प्रखंड के झरपों गांव में ठगी का अजीबोगरीब मामला प्रकाश में आया है. दरअसल सुबोध नामक युवक जो 16 साल पहले अपने घर से लापता हो गया था, वो अचानक अक्टूबर 2020 में योगी के भेष में घर पहुंचा. उस दौरान उसने खुद को घर का बेटा बताया और अपने कथित पिता से 10 हज़ार रुपये का मोबाइल फोन मांग कर ले गया. घर में रहते हुए युवक ने खुद को संन्यासी साबित करने का प्रयास किया. अक्टूबर महीने के बाद आज फिर जनवरी माह में वह अपने परिजनों के पास पहुंचा और 5 हज़ार और सोने के चेन (Gold Chain) की मांग की.

इस बात की सूचना सुबोध के पिता को दी गई. पिता युवक को सिमरिया से अपने घर झरपो हजारीबाग ले आए. जहां उसके साथ सख्ती बरतने के बाद यह पता चला कि वह उसका कोई बेटा नहीं, बल्कि सफीक नाम का शख्स है. फर्जी संन्यासी की पोल खुलने के बाद परिजनों ने स्थानीय पुलिस को सूचना दी और पुलिस ने युवक को गिरफ्त में लेकर जांच शुरू कर दी है.

..तो खुली पोल

परिजनों का यह भी कहना है कि पूछताछ के दौरान उस युवक ने अपनी पत्नी से भी बात की थी. उसके साथ बातचीत करने से यह भी पता चला कि आरोपी शख्स यूपी का रहने वाला है और वह मुस्लिम है. घरवालों ने बताया कि ठग युवक ने पीड़ित परिवार से भंडारा करने के नाम पर साढ़े तीन लाख रुपए की मांग भी की थी और कहा था कि भंडारा करने के बाद वह अपना गांव वापस लौट आएगा. ऐसे में अब परिजन को यह संदेह है कि यह युवक कोई बड़ा गिरोह चला रहा है. उसके घर से लापता बेटा सुबोध इन्हीं के चंगुल में है. अब पीड़ित परिवार ने पुलिस से गुहार लगाई है कि उनके बेटे की तलाश करें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज