Hazaribagh News: जब पूरे गांव ने नहीं दिया साथ तो बेटियों ने मां को कंधा देने के साथ किया अंतिम संस्कार, जानें पूरा मामला

गांव और समाज के लोगों ने किसी भी कार्य में साथ देने से इंकार कर दिया था.

गांव और समाज के लोगों ने किसी भी कार्य में साथ देने से इंकार कर दिया था.

झारखंड के हजारीबाग (Hazaribagh) के टाटीझरिया प्रखंड से बेटियों द्वारा अपनी मां को कंधा देने के साथ रीति रिवाज से अंतिम संस्कार (Funeral) करने का मामला सामने आया है. मृतका की बेटियों ने ये कदम गांव के लोगों के बहिष्‍कार के बाद उठाया.

  • Share this:

सौरभ अनुराग

हजारीबाग. कहावत है कि मां-बाप का साथ भले बेटा और समाज छोड़ दे, लेकिन चाहे परिस्थिति कैसी भी हो बेटियां हर वक्‍त उनके साथ खड़ी रहती हैं. यही नहीं, ऐसा न जाने कितनी बार देखने को मिला भी है. ऐसा ही ताजा मामला हजारीबाग (Hazaribagh) के टाटीझरिया प्रखंड से सामने आया हैं, जहां बेटियों ने अपनी मां को न सिर्फ कंधा दिया बल्कि पूरे रीति रिवाज से अंतिम संस्कार (Funeral) भी पूरा किया.

दरअसल सोमवार को प्रखंड के खंभवा गांव निवासी कमल भुइयां की 55 वर्षीय पत्नी कुंती देवी का निधन हो गया. निधन होने के बाद समाज के लोगों ने किसी भी कार्य में साथ देने से इंकार कर दिया. इतना ही नहीं ग्रामीणों ने काम के लिए नाई को भी अंतिम संस्कार में शामिल होने से मना कर दिया. इसके बाद मृतका के अंतिम संस्‍कार को लेकर संकट खड़ा हो गया.

फिर मृतका की बेटियों ने उठाया ये कदम
ऐसी स्थिति में कुंती देवी की आठ पुत्रियों ने अपनी मां का अंतिम संस्कार करने का फैसला किया और उनके शव को न सिर्फ कंधा दिया बल्कि पूरे रीति रिवाज के साथ अंतिम संस्कार भी पूरा किया. कंधा देने वालो में अजंती, रेखा, देवकी, बाबुन, केतकी और भोली शामिल थीं. बता दें कि कुंती देवी की 8 बेटियां हैं, जिसमें से 7 की शादी हो चुकी है और एक की शादी होनी बाकी है.

सामाजिक बहिष्‍कार की ये है वजह

बात दें कुछ वर्ष पहले कमल भुंइया को किसी विवाद या सामाजिक कार्यों में हिस्सा नहीं लेने की वजह से समाज और गांव से बहिष्कृत कर दिया गया था. इसके बाद से ही समाज के लोग इसके घर आते जाते नहीं थे. जबकि चार वर्षों से कुंती देवी का इलाज चल रहा था वो उठने बैठने में असमर्थ थी. इस दौरान उसके पति और बेटियों ने मिलकर उसका इलाज कराया. वहीं, मृतका के पति कमल भुंइया मजदूरी कर किसी तरह परिवार का पालन पोषण करता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज