होम /न्यूज /झारखंड /Hazaribagh: बरही बस स्टैंड का 45 लाख में हुआ था जीर्णोद्धार, 12 साल बाद भी नहीं हो सका चालू

Hazaribagh: बरही बस स्टैंड का 45 लाख में हुआ था जीर्णोद्धार, 12 साल बाद भी नहीं हो सका चालू

हजारीबाग का बरही बस स्टैंड 2009  से वीरान पड़ा है.

हजारीबाग का बरही बस स्टैंड 2009 से वीरान पड़ा है.

Barhi Bus Stand hazaribagh: हजारीबाग के बरही में बंद पड़े बस स्टैंड का 2009 में 45 लाख रुपये की लागत से जीर्णोद्धार करा ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट : सुबोध कुमार गुप्ता

    हजारीबाग. झारखंड के हजारीबाग के बरही में बंद पड़े बस स्टैंड का 2009 में 45 लाख रुपये की लागत से जीर्णोद्धार कराया गया था. हालांकि 12 वर्ष बीतने के बाद भी इसे नियमित तरीके से चालू नहीं किया जा सका है. वर्ष 2000 के पहले यानी झारखंड राज्य बनने से पहले हजारीबाग रोड पर स्थित बस पड़ाव की काफी अहमियत थी. बसों का परिचालन इसी बस पड़ाव से होता था. रांची व पटना जाने के लिए यहीं से बिहार राज्य पथ परिवहन निगम की गाड़ियां चलती थीं. तब यहां की रौनक देखते ही बनती थी, लेकिन धीरे-धीरे बस पड़ाव की स्थिति खराब होती चली गई. बस पड़ाव के लिए निर्मित भवन जर्जर होता चला गया और वाहनों का परिचालन पूरी तरह से बंद हो गया.

    यही नहीं, झारखंड राज्य बनने के बाद बस पड़ाव को नगर परिषद के अधीन ले लिया गया, लेकिन यहां से वाहनों का परिचालन शुरू करने की दिशा में कोई काम नहीं हुआ. बस पड़ाव हजारीबाग रोड पर स्थित होने के बावजूद भी वाहन बरही चौक पर ही लगते हैं. वर्ष 2009 में इसके जीर्णोद्धार का काम शुरू किया गया. यात्री सुविधा के लिए परिसर में शौचालय का निर्माण कराया गया. साथ ही चार दुकानों का भी निर्माण हुआ था. इसमें कुल 45 लाख रुपये की लागत आई थी, लेकिन बस संचालक व यात्रियों को इसका कोई लाभ नहीं मिला.

    सड़क पर अक्सर लगता है जाम
    2010 में जीर्णोद्धार का कार्य पूर्ण होने के बाद आस बंधी थी कि अब बस पड़ाव शुरू किया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. 12 साल बीतने के बाद भी अब तक बस पड़ा को चालू नहीं कराया गया. आलम यह है कि बस पड़ाव जुआरियों का अड्डा बन गया है, तो शौचालय अनुपयोगी हो चुके हैं. लाखों की लागत से बनी मार्केट वीरान पड़ी है. बस पड़ाव पर सभी संसाधन उपलब्ध होने के बाद भी वाहनों को बड़ी चौक एवं चारों मार्गों पर लगाया जाता है, जिससे शहर में जाम अक्सर जाम की स्थिति बनी रहती है.

    बरही एसडीओ ने कही ये बात
    वहीं बरही एसडीओ पूनम कुजुर ने न्यूज़ 18 लोकल को बताया कि बस स्टैंड नगर परिषद के अधीन है. निर्माण कार्य अधूरा होने के कारण इसे बरही प्रशासन को नहीं सौंपा गया है. इस पर जल्द एक बैठक नगर परिषद के साथ की जाएगी. बस स्टैंड जिला प्रशासन को हैंड ओवर किया जाएगा. उसके बाद बसों का परिचालन बरही बस स्टैंड से नियमित तरीके से शुरू किया जाएगा.

    Tags: Hazaribagh news, Jharkhand news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें