लाइव टीवी

झारखंड: बीमार मां को कराहते देखा, तो लॉकडाउन में 210 किमी साइकिल चलाकर लाई दवा
Hazaribagh News in Hindi

News18 Jharkhand
Updated: April 6, 2020, 9:39 AM IST
झारखंड: बीमार मां को कराहते देखा, तो लॉकडाउन में 210 किमी साइकिल चलाकर लाई दवा
हजारीबाग के बालेश्वर महतो ने अपनी मां की दवा के लिए एक दिन में 210 किमी साइकिल चलाई

बालेश्वर राम ने बताया कि लॉकडाउन (Lockdown) के कारण वह रांची नहीं जा पा रहा था. इस बीच धीरे-धीरे मां की दवाइयां खत्म हो गईं और उन्होंने बिस्तर पकड़ लिया. ऐसे में उन्‍हें साइकिल से रांची जाना पड़ा.

  • Share this:
हजारीबाग. कोरोना वायरस के चलते देशभर में लॉकडाउन (Lockdown) के बीच एक मार्मिक खबर सामने आई है. हजारीबाग के बालेश्वर राम ने लॉकडाउन में अपने माता-पिता के लिए श्रवण कुमार की भूमिका निभाई. उन्होंने अपनी बीमार मां को कराहते हुए देखा, तो एक दिन में 210 किमी साइकिल चलाकर उनके लिए दवा का प्रबंध किया.

दरअसल, लॉकडाउन के कारण शहर में वाहन नहीं चल रहे हैं. बालेश्वर ने इस स्थिति में अपने घर से 105 किमी दूर रांची साइकिल से जाकर दवा खरीदने का फैसला किया. शनिवर सुबह वह घर से निकले और रांची से दवा खरीद कर रात को घर वापस लौटे. यानी पूरा दिन साइकिल चलाते हुए 210 किमी का सफर तय किया.

मां का दर्द सहन नहीं कर पाया 
बालेश्वर ने बताया कि लॉकडाउन के कारण वह रांची नहीं जा पा रहा था. इस बीच, धीरे-धीरे मां की दवाइयां खत्म हो गईं और उन्होंने बिस्तर पकड़ लिया. बालेश्‍वर मां के इस दर्द को सहन नहीं कर पाए. इसलिए शनिवार सुबह पांच बजे साइकिल लेकर घर से निकले और रांची में दवाई खरीदकर रात 11 बजे वापस घर लौटे.



15 साल से चल रहा मां का इलाज  


बड़कागांव के डेलीमार्केट बाबा मुहल्ले के रहने वाले बालेश्वर राम दूध बेचकर घर चलाते हैं. उनकी मां सुगनी देवी 80 साल की हैं. पिछले 15 साल से सुगनी देवी पीठ की बीमारी और छाती दर्द से परेशान रहती हैं. रांची के एक डॉक्टर से उनका इलाज चल रहा है. बतौर बालेश्वर मां-बाप से बढ़कर इस दुनिया में कुछ नहीं होता. उनके लिए थोड़ा कष्ट सह लिया, तो कई बड़ी बात नहीं.

बता दें कि कोरोना वायरस के प्रचार-प्रसार को रोकने के लिए देश को लॉकडाउन कर दिया गया है, ताकि न तो कोई कहीं जा सके और न ही कोई एक जगह से दूसरे जगह पर आ सके. हालांकि, सरकार और स्‍थानीय प्रशासन ने मेडिकल और अन्‍य जरूरी सामान के लिए आने-जाने की छूट दी है. लेकिन, लॉकडाउन के चलते वाहन पूरी तरह से बंद हैं. ऐसे में आवागमन पूरी तरह से ठप पड़ गया है. इन परिस्थितियों में कुछ जरूरतमंद लोगों को कठिनाइयों का सामना भी करना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें- झारखंड में खुला देश का पहला Covid-19 बूथ, अब घर बैठे करा सकते हैं कोरोना जांच

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हजारीबाग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 6, 2020, 9:21 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading