होम /न्यूज /झारखंड /अपने 'इटैलियन सैलून' में अब भी सिर्फ 5 रुपए में दाढ़ी और 10 रुपए में केश काटते हैं कई 'बिल्लू'

अपने 'इटैलियन सैलून' में अब भी सिर्फ 5 रुपए में दाढ़ी और 10 रुपए में केश काटते हैं कई 'बिल्लू'

Barber Society: हजारीबाग के बड़कागांव के डेली मार्केट व चरही के साप्ताहिक बाजार में आज भी करीब दर्जनभर नाई ईंट पर लोगों ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : सुबोध कुमार गुप्ता

हजारीबाग. एक समय था जब बाजार, रेलवे स्टेशन या बस अड्डे के पास ईंट पर लोगों को बैठाकर हजामत बनाते हुए लोग दिख जाते थे. कुछ नाई पेड़ की छांव में कुर्सी लगाकर लोगों के बाल-दाढ़ी बनाते थे. कुर्सी के ठीक सामने पेड़ पर शीशा टंगा होता था. लेकिन वक्त के साथ ऐसे नजारे दुर्लभ होते गए हैं. फिर भी कुछ जगहों पर हजामत बनाने/बनवाने का यह ढर्रा बरकार है. हजारीबाग के बड़कागांव के डेली मार्केट व चरही के साप्ताहिक बाजार में आज भी करीब दर्जनभर नाई ईंट पर लोगों को बैठाकर उनके हजामत बनाते दिख जाते हैं.

ईंट पर बैठाकर हजामत बनाए जाने की वजह से कई लोग इसे बोलचाल में ‘इटैलियन सैलून’ भी कहते हैं. नाई दिलीप ठाकुर ने News18 Local को बताया कि यह मेरा पुश्तैनी धंधा है. शुरू से इसी तरह लोगों की हजामत बनाते आ रहे हैं. उन्होंने बताया कि बाल कटाई का 10 रुपये, क्रीम लगाकर दाढ़ी बनाने का 10 रुपये व केवल पानी से दाढ़ी बनाने का 5 रुपये लेते हैं.

सैलून का रुख कर रही नई पीढ़ी

दिलीप ठाकुर ने बताया कि आजकल लोग ईंट पर बैठकर हजामत नहीं बनवाना चाहते हैं, खासकर नई पीढ़ी. अब तो यह पीढ़ी सैलून का रुख करती है. फुटपाथ की ईंट पर बैठाकर जो लोग बाल कटिंग करते हैं, उनमें भी कई लोग कमाल के कारीगर होते हैं. आप जैसी स्टाइल उन्हें बताओ, हू-ब-हू वैसी स्टाइल का केश आपका बना देंगे. लेकिन हमारी कला पर अब की पीढ़ी को भरोसा नहीं, वे तो आरामदायक सीट पर बैठने की कीमत चुकाते हैं, वर्ना हम भी केश काटने में स्टाइलों के उस्ताद हैं. लेकिन अब की पीढ़ी 4 से 5 गुणा कीमत चुका कर सैलून में ही सेवा लेना चाहती है. हमारे पास इतनी पूंजी नहीं कि बड़े सैलून खोल सकें. मजबूरी में यहां हजामत बनाते हैं. उन्होंने बतया कि रोजाना करीब 100 रुपये की आमदनी हो पाती है. इतने कम पैसे में घर चलाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

सैलून में रोजाना 500-1000 रुपये कमाई

वहीं, बड़कागांव स्थित स्टाइलिश सैलून के संचालक दीपक कुमार ने बताया कि उनके पूर्वज ईंट पर हजामत बनाया करते थे. लेकिन वहां आमदनी काफी सीमित थी. इसलिए सैलून खोलने का फैसला किया. यहां एक व्यक्ति के बाल-दाढ़ी बनाने के 80 से 100 रुपये तक चार्ज किए जाते हैं. प्रतिदिन 500 से 1000 रुपये तक कमाई हो जाती है.

Tags: Hair Beauty tips, Hazaribagh news, Jharkhand news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें