लाइव टीवी

झारखंड विधानसभा चुनाव: मांडू में तीन भाइयों के बीच चुनावी संघर्ष

News18 Jharkhand
Updated: November 22, 2019, 12:50 PM IST
झारखंड विधानसभा चुनाव: मांडू में तीन भाइयों के बीच चुनावी संघर्ष
मांडू विधानसभा सीट पर तीन भाइयों में दिलचस्प चुनावी मुकाबला है.

तीनों उम्मीदवार सूबे के कद्दावर नेता रहे टेकलाल महतो (Teklal Mahto) के परिवार से आते हैं. उनके निधन के बाद उनकी सियासी विरासत को आगे बढ़ाने की जंग भाइयों में जारी है.

  • Share this:
हजारीबाग. मांडू विधानसभा क्षेत्र (Mandu Assembly Constituency) में चुनाव मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है. यहां एक ही परिवार के तीन भाई चुनावी दंगल में हैं. तीनों के जीत को लेकर अपने-अपने दावे हैं. यहां के सीटिंग विधायक जयप्रकाश भाई पटेल ने हाल में ही जेएमएम (JMM) छोड़कर बीजेपी (BJP) का दामन थाम लिया. और बीजेपी के टिकट पर चुनावी मैदान में हैं. विधायक के बड़े भाई राम प्रकाश भाई पटेल को झारखंड मुक्ति मोर्चा जेएमएम ने अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं चचेरे भाई चंद्रनाथ भाई पटेल को झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) (JVM) ने चुनावी दंगल में उतारा है.

प्रत्याशी भाइयों के दावे 

भाजपा उम्मीदवार और सीटिंग विधायक जेपी पटेल का दावा है कि उनकी जीत सुनिश्चित है. वो उस जीत का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. तीन भाइयों के आमने-सामने होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र के लिए अच्छा है. हालांकि बड़े भाई का नाम लिये बिना तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि पूर्व में भी कई पटेल चुनाव लड़े, लेकिन जनता ने सिर्फ उन्हें ही स्वीकार किया.

विधायक जेपी पटेल के बड़े भाई राम प्रकाश भाई पटेल इस बार झारखंड मुक्ति मोर्चा के टिकट पर उनके खिलाफ मैदान में हैं. जेएमएम उम्मीदवार राम प्रकाश भाई पटेल वर्ष 2009 में मांडु सीट पर जेएमएम के टिकट से चुनाव लड़े थे, लेकिन हार गये थे. उनका कहना है कि इस बार उन्होंने अपने पिता स्वर्गीय टेकलाल महतो के सपनों का मांडु बनाने के लिए चुनावी मैदान में उतरे हैं. हालांकि छोटे भाई का जिक्र किया बिना उन्होंने दावा किया कि मांडु की जनता इसबार उन्हें भी चुनेगी.

जयप्रकाश भाई पटेल और राम प्रकाश भाई पटेल दोनों सहोदर भाई हैं. जबकि चंद्रनाथ भाई पटेल इनके चचेरा भाई हैं. चंद्रनाथ को झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) ने टिकट दिया है. चंद्रनाथ भाई का दावा है कि सीटिंग विधायक से क्षेत्र की जनता नाराज है. राम प्रकाश भाई पटेल को जनता ने पहले ही नकारा दिया था. ऐसे में उनकी जीत पक्की दिखती है.

टेकलाल महतो की सियासी विरासत को लेकर जंग 

ये तीनों उम्मीदवार सूबे के कद्दावर नेता रहे टेकलाल महतो के परिवार से आते हैं. जेएमएम नेता टेकलाल महतो मांडू विधानसभा से लगातार विधायक रहे. गिरिडीह से सांसद भी रहे. उनके निधन के बाद उनकी सियासी विरासत को आगे बढ़ाने की जंग भाइयों में जारी है.
Loading...

चुनावी इतिहास

1952 में मांडू विधानसभा सीट रामगढ़ रिजर्व विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत थी. लेकिन 1957 में यह अलग विधानसभा सीट के रूप में अस्तित्व में आयी. उस समय गोमिया क्षेत्र इसी का हिस्सा हुआ रता था. मांडू विधानसभा क्षेत्र में लगभग एक दशक से अधिक तक रामगढ़ राज परिवार का राजनीतिक दबदबा रहा. वर्ष 1957 से लेकर 1969 तक मांडू विधानसभा क्षेत्र से रामगढ़ राज परिवार की पार्टी के मोती राम, रघुनंदन प्रसाद, बलवंतनाथ सिंह, राजा कामाख्या नारायण सिंह विजयी होते रहे. वर्ष 1972 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के वीरेंद्र कुमार पांडेय ने यहां जीत हासिल की थी. उसके बाद से कांग्रेस आज तक जीत हासिल नहीं कर पायी. 1985, 1990, 1995, 2000 लगातार चार बार टेकलाल महतो जेएमएम से विधायक रहे. 2005 में जदयू के खीरू महतो ने टेकलाल महतो के बड़े बेटे रामप्रकाश भाई पटेल को हराया था. 2009 में फिर टेकलाल महतो यहां से विधायक बने. उनके निधन के बाद 2014 में जेएमएम के टिकट पर जेपी पटेल विधायक बने.

वोटर्स 

कुल वोटर्स- 379205

पुरुष वोटर्स- 201536
महिला वोटर्स- 177669


(रिपोर्ट- राकेश कुमार) 




 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हजारीबाग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 12:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...