Assembly Banner 2021

बालू उठाव पर रोक से मजदूर हुए बेरोजगार, निर्माण कार्य पड़े ठप

प्रेम प्रकाश
जिला संयोजक सीटू सह जिलाअध्यक्ष कामगार यूनियन

प्रेम प्रकाश जिला संयोजक सीटू सह जिलाअध्यक्ष कामगार यूनियन

कोडरमा के झुमरीतिलैया में सीटू की सहयोगी संस्था झारखंड निर्माण कामगार यूनियन की बैठक में निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों ने हिस्सा लिया और सरकार द्वारा बालू के उठाव पर रोक लगाए जाने पर चिन्ता जाहिर की. मजदूरों ने सरकार से बालू पर लगी रोक हटाने की मांग की.

  • Share this:
कोडरमा के झुमरीतिलैया में सीटू की सहयोगी संस्था झारखंड निर्माण कामगार यूनियन की बैठक में निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों ने हिस्सा लिया और सरकार द्वारा बालू के उठाव पर रोक लगाए जाने पर चिन्ता जाहिर की. मजदूरों ने सरकार से बालू पर लगी रोक हटाने की मांग की.

बता दें कि बाजार में बालू नहीं आने से सभी तरह के भवन निर्माण के कार्यों पर असर पडा है. साथ ही इस वजह से मजदूरों की भी रोजी मारी गई है. दैनिक मजदूरों को रोजगार नहीं मिल पा रहा है. उनके सामने आर्थिक परेशानी उत्पन्न हो गई है. इसे लेकर मजदूरों में चिन्ता की स्थिति बन गई है.

सीटू के जिला संयोजक प्रेम प्रकाश की माने तो पिछले एक महीने से पूरे जिले में बालू का संकट है. नदी से बालू आ नहीं रही है. इस वजह से 50 हजार निर्माण कार्य प्रभावित हो गए हैं. शौचालय नहीं बन पा रहा है. प्रधानमंत्री आवास नहीं बन पा रहा है. सरकारी काम नहीं हो रहा है. इस वजह से 50 हजार निर्माण कामगारों के बीच परिवार चलाने का संकट उत्पन्न हो गया है.



उन्होंने कहा कि हमलोग इस बैठक के जरिए सरकार से मांग करते हैं कि बालू की समस्या का समाधान निकाला जाए ताकि मजदूरों के परिवार का गुजारा हो सके. सरकार ने बालू पर रोक लगाई है और बाजार में बालू अवैध तरीके से लाए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस और बालू माफियाओं के सांठ गांठ से ऐसा हो रहा है. उन्होंने कहा कि जो बालू 1500 रूपयों में मिलता था, अब 4000 रूपयों में मिल रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज