Home /News /jharkhand /

Jharkhand: आज है रूपेश का दशकर्म, मां की तबीयत बिगड़ी, बेटे की मौत के दिन से त्याग रखा है अन्न

Jharkhand: आज है रूपेश का दशकर्म, मां की तबीयत बिगड़ी, बेटे की मौत के दिन से त्याग रखा है अन्न

Rupesh Pandey News: रूपेश पांडेय की मां ने बेटे की मौत के दिन से ही आरोपियों को सजा दिलाने की मांग को लेकर अन्न त्याग रखा है, ऐसे में उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती जा रही है.

Rupesh Pandey News: रूपेश पांडेय की मां ने बेटे की मौत के दिन से ही आरोपियों को सजा दिलाने की मांग को लेकर अन्न त्याग रखा है, ऐसे में उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती जा रही है.

Rupesh Pandey Murder Case: कुछ लोगों द्वारा 17 वर्षीय रूपेश पांडेय (Rupesh Pandey) को पीटा गया था, जिसकी वजह से उसकी मौत हो गयी थी. इस घटना के दिन से ही रुपेश पांडे की मां उर्मिला देवी ने अपने बेटे रितेश पांडे के हत्यारों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग के साथ अन्न त्याग दिया था, जिसके बाद लगातार रुपेश पांडे की मां की तबीयत बिगड़ती जा रही है.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट- रितेश लोहानी

हजारीबाग. झारखंड के हजारीबाग जिले के बरही में बीते 6 फरवरी को सरस्वती पूजा की प्रतिमा विसर्जन के दिन शाम के समय दुलमहां गांव में हुई घटना पर पूरे देश में चर्चा हो रही है. दरअसल इस दिन कुछ लोगों द्वारा 17 वर्षीय रूपेश पांडेय (Rupesh Pandey) को पीटा गया था, जिसकी वजह से उसकी मौत हो गयी थी. इस घटना के दिन से ही रुपेश पांडे की मां उर्मिला देवी ने अपने बेटे रितेश पांडे के हत्यारों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग के साथ अन्न त्याग दिया था, जिसके बाद लगातार रुपेश पांडे की मां की तबीयत बिगड़ती जा रही है. बीते दिनों भी उर्मिला देवी की तबीयत खराब की खबर मिलने के बाद अनुमंडलीय अस्पताल के डीएस खुद रुपेश पांडे के घर पहुंच कर रुपेश की मां को स्लाइन लगाया और परिवार के सदस्यों को अपना मोबाइल नंबर देते हुए कहा कि अगर स्वास्थ्य संबंधित किसी भी तरह की परेशानी हो तो बेझिझक उनसे संपर्क करें. अब एक बार फिर बुधवार को रूपेश के दशकर्म के दिन उसकी मां की तबीयत बिगड़ गयी है.

आज रूपेश पांडे का दशकर्म भी है यानी रूपेश पांडे के मौत के दस दिन बीत चुके हैं किंतु अब तक पुलिस यह पता नही कर सकी की कि आखिर रूपेश पांडेय के साथ मारपीट के पीछे की मुख्य वजह क्या थी? घटना के बाद से ही परिजन इस पूरे मामले को मॉब लिंचिंग बता रहे हैं. हालांकि इस बारे में हजारीबाग के पुलिस अधीक्षक मनोज रतन चौथे का कहना है कि अब तक की जांच के दौरान इस पूरी घटना में मॉब लिंचिंग की पुष्टि नहीं हुई है.

घटना के बाद से गरमाई झारखंड की राजनीति 

इधर घटना के बाद से लगातार झारखंड की राजनीति गरमा गई थी और लगातार रुपेश पांडे के परिजनों से मिलने विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता पहुंच रहे थें. वहीं झारखंड के 2-2 पूर्व मुख्यमंत्री, रघुवर दास और बाबूलाल मरांडी सहित हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा और हजारीबाग सदर विधायक मनीष जयसवाल भी परिजनों से मिलने पहुंचे थे, जिसके ठीक बाद झारखंड सरकार के तीन मंत्री सत्यानंद भोक्ता, मिथिलेश ठाकुर, बादल पत्रलेख और स्थानीय विधायक सहित तीन विधायक, उमाशंकर अकेला, सुदिव्य कुमार सोनू और अंबा प्रसाद परिजनों से मिलने रूपेश पांडे के घर पहुंचे थे, जिन्होंने बताया था कि वह मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद यहां सरकार के प्रतिनिधि मंडल बन कर आए हैं. रूपेश पांडे के घर पहुंचे लगभग सभी नेताओं ने अपनी-अपनी ओर से सहयोग राशि का भी ऐलान किया था. रुपेश पांडे के माता-पिता की सिर्फ एक ही मांग थी कि रूपेश पांडे के हत्यारों को फांसी दी जाए.

रूपेश के परिवार से मिलने जा रहे कपिल मिश्रा हिरासत में 

वहीं बुधवार को रूपेश पांडेय के परिवार से मिलने जा रहे बीजेपी नेता कपिल मिश्रा को रांची एयरपोर्ट पर ही रोक दिया गया. कपिल मिश्रा जैसे ही रांची एयरपोर्ट पहुंचे झारखंड पुलिस के जवानों ने उनसे पूछताछ की और फिर उन्हें हिरासत में ले लिया. जिसके बाद कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर कहा कि वे रूपेश पांडेय जी के शोक संतप्त परिवार से मिलने आए हैं. उनका कहना है कि वे पुलिस के वाहन में चंद लोगों के साथ रूपेश जी के घर जाना चाहते हैं. उन्होंने ये भी कहा कि मुझे रोकना झारखंड सरकार की नीयत पर सवाल खड़े करता है.

दरअसल सुबह 8:00 बजे के बाद से ही भाजपा नेता कपिल मिश्रा को रांची एयरपोर्ट पर रोक दिया गया है. कपिल मिश्रा दिल्ली से झारखंड के बरही में मॉब लिंचिंग के शिकार युवक रुपेश पांडेय के परिजनों से मिलने पहुंचे हैं, जैसे ही कपिल मिश्रा रांची एयरपोर्ट से बाहर निकले पुलिस की टीम ने उन्हें वहीं रोक दिया.

Tags: Jharkhand News Live, Jharkhand Police, Mob lynching

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर