होम /न्यूज /झारखंड /Video: टाटा स्टील प्लांट की 110 मीटर ऊंची चिमनी को 11 सेकेंड में गिराया, देखें धमाके का वीडियो

Video: टाटा स्टील प्लांट की 110 मीटर ऊंची चिमनी को 11 सेकेंड में गिराया, देखें धमाके का वीडियो

झारखंड के जमशेदपुर में टाटा स्टील की 27 साल पुरानी 110 मीटर ऊंची चिमनी को महज 11 सेकंड ध्वस्त कर दिया गया.

झारखंड के जमशेदपुर में टाटा स्टील की 27 साल पुरानी 110 मीटर ऊंची चिमनी को महज 11 सेकंड ध्वस्त कर दिया गया.

Chimney Blast of Tata Steel Plant: झारखंड के जमशेदपुर में टाटा स्टील की 27 साल पुरानी 110 मीटर ऊंची चिमनी को महज 11 सेक ...अधिक पढ़ें

जमशेदपुर. झारखंड के जमशेदपुर में टाटा स्टील की 27 साल पुरानी 110 मीटर ऊंची चिमनी को महज 11 सेकंड ध्वस्त कर दिया गया. चिमनी को ध्वस्त किए जाने का वीडियो कंपनी ने ट्वीट किया था, जिसमें कहा गया कि इसे सुरक्षित, नियंत्रित और पर्यावरण के अनुकूल तरीके से किया गया. इस वीडियो में दिख रहा है कि चिमनी के निचले हिस्से में एक विस्फोट किया गया, जिसके बाद यह चिमनी धीरे-धीरे और बड़े करीने से एक तय क्षेत्र में गिर गई. इसके बाद धूल को नियंत्रित करने के लिए ‘वाटर कर्टन्स’ का इस्तेमाल किया गया.

टाटा स्टील के वाइस प्रेसिडेंट अवनीश गुप्ता ने कहा, ‘जमशेदपुर प्लांट की बैटरी नंबर 5 की 27 साल पुरानी 110 मीटर ऊंची चिमनी को इम्प्लोजन मेथड से तोड़ा गया, जिससे डिमोलिशन प्रोसेस कर्मचारियों के लिए सुरक्षित हो गया. इससे समय की बचत भी हुई और यह पर्यावरण के अनुकूल भी रही. स्मोक टॉवर को 11 सेकंड के भीतर ध्वस्त कर दिया गया.

विध्वंस का कार्य दक्षिण अफ्रीका की एडिफिस इंजीनियरिंग इंडिया द्वारा किया गया था – वही कंपनी जिसने नोएडा के ट्विन टॉवर्स को राख में बदल दिया था. टावरों, अपेक्स (32 मंजिलों) और सेयेन (29 मंजिलों) को 28 अगस्त को अब तक की सबसे बड़ी नियोजित टावर विध्वंस बोली में कम से कम 3,700 किलोग्राम वजन वाले विस्फोटकों से धराशायी कर दिया गया था. विध्वंस सफल रहा और इससे किसी की जान का नुकसान नहीं हुआ. ‘स्टील रैप्स’ के उपयोग ने यह सुनिश्चित किया कि मलबा बिखरा नहीं.

अधिकारियों ने बताया कि चिमनी को जीरो डिग्री अर्थात पूरी तरह लंबवत गिराया गया. अभी तक चार डिग्री तक गिराने का ही रिकॉर्ड था. चिमनी का मलबा इधर-उधर नहीं गिरा. चिमनी जहां पर बनी थी, वहीं पर गिर गई. टाटा स्टील के उपाध्यक्ष अविनाश गुप्ता ने बताया कि नोएडा में सुपरटेक के ट्विन टॉवर गिराने वाली कंपनी दक्षिण अफ्रीका की एडिफिस इंजीनियरिंग इंडिया स्पोर्टेड वाय जेट डिमोलिशन कंपनी ने कोक प्लांट के बंद पड़ी बैटरी नंबर- 5 की 110 मीटर लंबी चिमनी को 11 सेकेंड में गिराने में सफलता हासिल की. यह अपने आप में एक रिकॉर्ड है. जिस 110 मीटर ऊंची चिमनी को ध्वस्त किया गया है, उसका निर्माण टाटा कंपनी द्वारा 1995 में किया गया था.

Tags: Jamshedpur news, Jharkhand news, Tata steel

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें