• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • घाटशिला: इस गांव की महिलाएं 5 किलोमीटर पैदल चलकर लाती हैं पीने का पानी

घाटशिला: इस गांव की महिलाएं 5 किलोमीटर पैदल चलकर लाती हैं पीने का पानी

झारखंड के इस गांव में रहने वाले दस सालों से चेकडैम का पानी पीने को मजबूर हैं.

झारखंड के इस गांव में रहने वाले दस सालों से चेकडैम का पानी पीने को मजबूर हैं.

घाटशिला (Ghatshila) के धालभूमगढ़ प्रखंड के इस गांव की महिलाएं चेकडैम (Check Dam) से निकले पहाड़ी नाला का पानी पीने के लिए ले जाने को मजबूर हैं.

  • Share this:
घाटशिला. धालभूमगढ़ प्रखंड के सबसे बिहड़ और पहाड़ी गांव दुधपोसी गांव की महिलाओं को पानी के लिये दो किलोमीटर दूर पैदल चलना पड़ता है. उसके बाद ग्रामीण महिलाएं चेकडैम (Check Dam) से निकले पहाड़ी नाला से पीने का पानी लेकर जाती हैं. इस गांव में लगे पांच चापाकल खराब पड़े हैं. गांव में एक कुआं भी है, लेकिन इसका भी पानी गंदा और पीने लायक नहीं है. इस कारण गांव के सभी महिलाएं पहाड़ी नाले के समीप बनाये गए चुआं से पानी पीते हैं. बीते 10 सालों से इस गांव के लोग इसी चेकडैम का पानी पीने को मजबूर हैं.

दुधपोसी गांव के बेडाडीह टोला में कुल 40 घर हैं, जबकि भुरूलूडांगा में 15 घर, बादलागजाड़ में 10 घर और सबर टोला में चार घर हैं. इन सभी टोले के लोगों को नदी नाले का ही पानी पीना पड़ता है. गांव के लोगों ने पानी की आपूर्ति के लिये कई बार आवेदन तक दिये, लेकिन आज तक गांव में स्वच्छ पानी के लिये कोई व्यवस्था नहीं की गयी है. मजबूरन बीते 10 सालों से गांव के लोग नदी नाले का पानी पीते है.

ग्रामीण कर रहे हैं ये मांग
ग्रामीणों ने बताया कि पानी के संबंध में कई बार मुखिया से संपर्क किया गया. लेकिन ना ही चापालक मरम्मत की गई और ना ही किसी तरह का कोई जलमीनार बनाये गये हैं. ग्रामीणों की मांग है कि गांव में एक डीप बोरिंग कर जल मीनार बनाया जाये ताकि ग्रामीणों को पानी की सुविधा मिल सके.

शादी के बाद से पी रही हैं पहाड़ी नाले का पानी
गांव की महिलायें बताती है कि जब से उनकी शादी हुई है तबसे वे चेकडैम से निकली पहाडी नाला का ही पानी पीती हैं. गांव के लोगों अपनी रोजमर्रा के जीवन में उपयोग के लिए पहाड़ी नाले के पानी पर निर्भर हैं. इसके लिए ग्रामीणों ने चेकडैम से निकले पहाड़ी नाले के समीप ही चुआं बना कर रखा है. जिससे महिलायें बारी बारी कर पानी लेती है. इसके लिए महिलाओं को दो किलोमीटर लंबी दूरी तय करनी पड़ती है. दिनभर में दो बार पानी लेने के लिये चेकडैम आना पड़ता है.

ग्रामीणों ने बताया कि पहाड़ी और दुर्गम इलाका होने के कारण यहां कोई नही आता है. जिससे उनकी समस्या सुलझने का नाम नहीं ले रही हैं.



ये भी पढ़ें: 

झारखंड राज्यसभा चुनाव: इलेक्शन कमीशन ने बाबूलाल मरांडी को माना BJP का विधायक

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज