'हेलो, कैसी तबीयत है आपकी'? जमशेदपुर में कोरोना से बचाव के लिए शुरू हुई हेल्पलाइन

क्रिएटिव इलस्ट्रेशन

क्रिएटिव इलस्ट्रेशन

Corona Helpline: कोविड-19 के कठिन दौर में एक तरफ आफत की खबरें कम नहीं हैं, तो दूसरी तरफ राहत की भी कुछ खबरें हैं. संक्रमितों को राहत देने के लिए जमशेदपुर में मानगो नगर निगम ने स्थानीय स्तर पर हेल्पलाइन शुरू की है.

  • Share this:
जमशेदपुर: 'आपकी सेहत कैसी है.. किस तरह के सिम्प्टम्स महसूस हो रहे हैं.. घर में क्या स्थिति है.. थर्मामीटर और ऑक्सीमीटर है या नहीं..'. आप किसी को फोन डायल करें तो ये सवाल नहीं सुनाई देते, बल्कि बाकायदा आपको फोन लगाकर आपसे आपके हाल चाल पूछे जा रहे हैं. जी हां, मानगो नगर निगम ने एक नई सेवा शुरू करते हुए लोगों के संक्रमण को लेकर फोन पर उनसे संपर्क करने की शुरूआत की है.

इस नई सेवा के तहत जिला प्रशासन से प्राप्त संक्रमित व्यक्तियों की सूची के मुताबिक फोन लगाए जाते हैं. संक्रमितों की तबीयत के साथ-साथ उनकी फैमिली के बारे में भी बात की जाती है. यह पहल कार्यपालक अधिकारी दीपक सहाय के निर्देशों के मुताबिक शुरू की गई है. सराही जा रही इस सेवा के बारे में जानिए.

ये भी पढ़ें : मरीज़ को ऑक्सीजन के साथ घसीटने के वायरल वीडियो पर स्वास्थ्य मंत्री की लीपापोती

फोन पर क्या पूछा जाता है?
संक्रमितों के हालचाल लेने के साथ ही उनके परिवार के सदस्यों की संख्या, उनके घर पर ऑक्सीमीटर और थर्मामीटर है या नहीं, उनके घर में रहने के लिए सेपरेट रूम है या नहीं, परिवार में किसी को हार्ट, किडनी, शुगर या अन्य कोई क्रिटिकल बीमारी हो तो उसके बारे में जानकारी भी ली जाती है.

jharkhand news, jamshedpur news, corona in jharkhand, covid-19 helpline, झारखंड न्यूज़, झारखंड समाचार, जमशेदपुर न्यूज़, झारखंड में कोरोना
पूर्वी सिंहभूम में लोकल स्तर पर शुरू हुई फोन हेल्पलाइन सेवा.


क्यों किया जाता है फोन?



ये फोन सिर्फ जानकारी लेने के लिए ही नहीं बल्कि देने के लिए भी किया जाता है. संक्रमितों के हालचाल जानने के बाद उनका हौसला बढ़ाया जाता है. विशेष परिस्थिति में संपर्क करने के लिए डॉक्टर, अस्पताल, एंबुलेंस आदि के बारे में जानकारी दी जाती है. ज़िला प्रशासन द्वारा प्राप्त फॉर्मेट में भरकर प्रतिदिन ज़िला प्रशासन, पूर्वी सिंहभूम जमशेदपुर को विवरण उपलब्ध कराया जाता है.

ये भी पढ़ें : बहन तड़पती रही, भाई चीखता रहा, ऑक्सीजन नहीं.. अस्पताल के दरवाज़े पर मौत मिली

इस फोन सेवा को इलाके में लोग सराह रहे हैं और संक्रमित व्यक्तियों व उनके परिजनों का कहना है कि इस तरह के फोन आने से ऐसा महसूस होता है जैसे कोई उनकी देखभाल कर रहा है. बता दें कि सीएमएम निर्मल कुमार एवं नगर प्रबंधक अनामिका निशा बागे संक्रमित व्यक्तियों से दूरभाष पर लगातार संपर्क को अंजाम दे रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज