जमशेदपुर में हरी सब्जियों से तैयार रंगों से खेली जाएगी होली, महिलाओं ने घर पर बनाया हर्बल कलर

जमशेदपुर की महिलाएं हरी सब्जियों से होली के लिए रंग तैयार करती हैं.

जमशेदपुर की महिलाएं हरी सब्जियों से होली के लिए रंग तैयार करती हैं.

Holi Spl: झारखंड के जमशेदपुर में महिलाएं हरी सब्जियों से होली के लिए रंग बनाते हैं. टमाटर, पालक, हल्दी, गाजर और बीट से हरा, लाल और पीले रंग के साथ-साथ अबीर बनाये जाते हैं.

  • Share this:
जमशेदपुर. हरी सब्जी हमारे- आपके जायके को स्वादिष्ट बनाते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि हरी सब्जियों से होली (Holi) के लिए रंग (Colors) भी तैयार होते हैं. झारखंड के जमशेदपुर में महिलाएं हरी सब्जियों से होली के लिए रंग बनाते हैं. टमाटर, पालक, हल्दी, गाजर और बीट से हरा, लाल और पीले रंग के साथ-साथ अबीर बनाये जाते हैं. सबसे बड़ी खासियत ये है कि सब्जियों से बने रंगों का इस्तेमाल करने पर चेहरे और त्वचा पर खराब असर नहीं होता है.

सब्जियों से रंग बनाने के तरीके

लाल रंग- लाल रंग बनाने के लिए महिलाएं लाल गुड़हल के फूल का पाउडर, रोरी, लाल चंदन और गुड़हल के फूलों का इस्तेमाल करते हैं. इसमें आटा, अरारोट या कॉर्न स्टार्च भी मिला सकते हैं. रंग के लिए टेसू के फूल और चुकंदर को पीसकर उसका पेस्ट भी काम में लाया जा सकता है.

पीला रंग- पीला रंग बनाने के लिए गेंदे का फूल, हल्दी या फिर पीले चंदन का इस्तेमाल कर सकते हैं. पीला रंग बनाने के लिए दो चम्मच हल्दी पाउडर में दोगुना बेसन मिला लें. आप चाहे तो हल्दी में बेसन की जगह मुल्तानी मिट्टी या टेल्कम पाउडर भी मिला सकते हैं. पीला रंग देने के लिए आप हल्दी और गेंदे के सूखे फूलों को पीसकर बनाया गया पाउडर भी पीले रंग की तरह यूज कर सकते हैं.
हरा रंग- हरा रंग बनाना बहुत ही ज्यादा आसान हैं. इस रंग को बनाने के लिए सूखे हरे रंग की पत्तियों की जरूरत पड़ती है जैसे कि पालक, धनिया या पुदीने के पत्ते की. आप चाहे तो हरा रंग बनाने के लिए मेहंदी पाउडर या आंवला पाउडर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. हरी पत्तियों को पीसकर थोड़ा सा आटा या आरारोट या काॅर्न स्टार्च मिला दें. हरा रंग तैयार हो जाता है.

नीला रंग- नीले गुलमोहर के फूलों को अच्छे से सूखाकर और मिक्सचर में पीसकर भी हम नीला रंग तैयार कर सकते हैं. आप चाहे तो इसमें आरारोड, कॉर्न स्टार्च आटा या मेदा मिलाकर भी नीला रंग तैयार कर सकते हैं. नीले रंग के लिए नील के पौधों की फलियों को पीसकर और पानी में उबाला जाता है. नीले गुड़हल के फूलों को सुखाकर और पीसकर भी नीला रंग तैयार किया जाता है.

गुलाबी रंग- अगर आपको गहरा गुलाबी रंग पाना है, तो आप चुकंदर को रातभर भिंगोकर रख सकते हैं और फिर रंग बनाते हैं. इससे आपको गहरा गुलाबी रंग मिल जाएगा. बस इसे आटा, मेदा या अरारोट के साथ मिक्स करना पड़ता है. खुशबू के लिए टेल्कम पाउडर या गुलाब जल का इस्तेमाल कर सकते हैं.



हरी सब्जियों और फूलों से रंग बनाने वाली सीमा कुमारी का कहना है कि यह होममेड रंग हमारी स्किन के लिए काफी फायदेमंद है. यह बिल्कुल केमिकल फ्री होता है. ऐसे में इन रंगों से आप बिना किसी डर के बेखौफ होली खेल सकते हैं. छोटे बच्चों को भी इससे कोई नुकसान नहीं होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज