Jamshedpur News: सुवर्णरेखा नदी से लाखों के रेत का खेल जारी, ऐसे बंटता है कमीशन

जमशेदपुर के सुवर्णरेखा नदी से बालू का अवैध उठाव जारी है.

जमशेदपुर के सुवर्णरेखा नदी से बालू का अवैध उठाव जारी है.

Illegal Sand lifting: जमशेदपुर के पास सुवर्णरेखा नदी से रोजाना अवैध तरीके से बालू का उठाव हो रहा है. 300 से 350 ट्रॉली बालू निकालकर पड़ोसी राज्य भेजा जाता है. इस तरह यहां 7 से 8 लाख रुपये का रेत का अवैध धंधा होता है.

  • Share this:

जमशेदपुर. झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले में बालू का खेल धड़ल्ले से जारी है. नदियों से बिना किसी रोक-टोक के बालू का अवैध उठाव (Illegal Sand lifting) जारी है. जमशेदपुर के सोनारी दोमुहानी से 500 मीटर दूरी पर सुवर्णरेखा नदी (Subarnarekha River) से रोजाना 300 से अधिक ट्रॉली बालू अवैध तरीके से निकाले जा रहे हैं. उधर, सरायकेला- खरसावां जिले के सपड़ा और गौरी गांव के दो किलोमीटर के दायरे में सौ से ज्यादा लोग इस धंधे में लिप्त हैं. इससे सरकार को लाखों के राजस्व का चूना लग रहा है.

जानकारी के मुताबिक यहां से बालू का उठाव कर ओडिशा और बंगाल भेजा जाता है. यहां हर दिन सुबह से ही बालू उठाव का काम शुरू हो जाता है. ग्रामीणों को बालू माफिया नदी तक जाने नहीं देते. और बालू का काला खेला धड़ल्ले से चलता है. ताजूब्ब इस बात का है कि सबकुछ जानते हुए भी जिला पुलिस मौन रहता है. वो भी तब जब विधानसभा में बालू के अवैध उठाव पर विपक्ष सरकार को कई बार घेर चुका है.

ऐसे चलता है रेत का खेल

बालू की कीमत- 2000 से 2500 रुपए प्रति ट्रॉली
मजदूरों को मिलता है 300 से 400 रुपए प्रति ट्रॉली

पुलिस व खनन विभाग का हिस्सा- 300 से 400 रुपये प्रति ट्रॉली

स्थानीय नेताओं का हिस्सा- 200 रुपए प्रति ट्रॉली



बालू माफिया को मिलता है- 1200 से 1500 रुपए प्रति ट्रॉली

रोजाना बालू का उठाव- 300 से 350 ट्रॉली होता है. इस प्रकार हर दिन 7 से 8 लाख रुपये का अवैध धंधा होता है. लेकिन प्रशासन मौन धारण किये हुए है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज