दामाद को मिली उम्रकैद की सजा, प्रॉपर्टी के लिए की थी सास-ससुर व साली की हत्या
Jamshedpur News in Hindi

दामाद को मिली उम्रकैद की सजा, प्रॉपर्टी के लिए की थी सास-ससुर व साली की हत्या
दोषी दामाद प्रलय दास

कोर्ट ने साढ़े पांच साल तक ये मामला चला, जिसके बाद मंगलवार को आरोपी दामाद प्रलय दास को दोषी करार दिया गया.

  • Share this:
जमशेदपुर के सिदगोड़ा ट्रिपल मर्डर केस में कोर्ट ने दोषी दामाद प्रलय दास को आजीवन करावास की सजा सुनाई है. उस पर 20 हजार का जुर्माना भी लगाया गया है. एडीजे प्रभाकर कुमार की कोर्ट ने दर्जनभर लोगों की गवाही के बाद ये फैसला सुनाया. गवाही देने वालों में प्रलय दास की पत्नी भी शामिल है. बता दें कि प्रलय दास ने 27 नवंबर 2012 की रात प्रॉपर्टी की लालच में सास, ससुर और एक साली की बेरहमी से हत्या कर दी थी.

कोर्ट ने साढ़े पांच साल तक ये मामला चला, जिसके बाद मंगलवार को आरोपी दामाद प्रलय दास को दोषी करार दिया गया. प्रलय फूल बेचकर घर चलाता था और ससुराल की प्रॉपर्टी का वारिस बनने के लिए उसने तीहरे हत्याकांड को अंजाम दिया. उसने तलवार से सास श्यामली चटर्जी, ससुर रतन चटर्जी और साली पियाली की हत्या कर दी थी. इस मामले में अन्य तीन आरोपी टिंकू यादव, अमर यादव और राहुल मुंडा को कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया.

रतन चटर्जी टाटा कंपनी के कर्मचारी थे और कंपनी के क्वार्टर में रहते थे. बेटी पियाली ग्रेजुएट कॉलेज में बीसीए फर्स्ट ईयर की छात्रा थी. मर्डर के बाद प्रलय घर पहुंचा और पत्नी शिवानी को हत्या की बात बताई. घर में ही खून से सने कपड़े छुपा दिए थे. जांच के दौरान पुलिस ने खून से सने कपड़ों को बरामद किया और सास, ससुर, साली के डीएनए से मैच कराया तो रिजल्ट पॉजिटिव निकला था.



(आशीष कुमार की रिपोर्ट)
ये भी पढ़ें- 

बरसात के मद्देनजर रोक के बावजूद बालू का उठाव धड़ल्ले से जारी

जीएसटी फर्जीवाड़ा : सरकार को 65 करोड़ 26 लाख रूपये का चूना

कई जिलों को जोड़ने वाला पुल डेंजर जोन में, कभी भी हो सकता है बड़ा हादसा

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading