लाइव टीवी

जेएमएम को मिली जमशेदपुर सीट! कुणाल षाडंगी हो सकते हैं उम्मीदवार

News18 Jharkhand
Updated: March 14, 2019, 2:47 PM IST
जेएमएम को मिली जमशेदपुर सीट! कुणाल षाडंगी हो सकते हैं उम्मीदवार
जेएमएम को मिली जमशेदपुर सीट!

विधायक कुणाल षाडंगी जमशेदपुर लोकसभा सीट पर झामुमो का चेहरा हो सकते हैं. वैसे आस्तिक महतो के नाम की भी चर्चा है.

  • Share this:
प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने जमशेदपुर लोकसभा सीट से चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान कर दिया है. इस प्रकार गठबंधन के तहत यह सीट झामुमो की झोली में चली गई है. इससे झामुमो कार्यकर्ताओं का जोश चरम पर है. लेकिन कांग्रेसी निराश हो गए हैं.

एक अरसे बाद झामुमो को अपनी परंपरागत सीट वापस मिलने का मौका प्राप्त हुआ है. इसलिए कार्यकर्ता जी- जान से चुनाव में अपनी ताकत झोंकने को तैयार हैं. झामुमो नेता और कार्यकर्ता किसी भी प्रत्याशी के लिए कार्य करने को तैयार हैं. वैसे आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है, लेकिन ये तय माना जा रहा है बहरागोड़ा के झामुमो विधायक सह पार्टी के केन्द्रीय प्रवक्ता कुणाल षाडंगी ही जमशेदपुर लोकसभा चुनाव में झामुमो का चेहरा होंगे. वैसे आस्तिक महतो के नाम की भी चर्चा है. लेकिन कार्यकर्ताओं का स्पष्ट कहना है कि जो भी लड़ेगा, वे लोग उसके लिए जी जान लड़ा देंगे. वहीं कुणाल षाडंगी का ये कहना है कि पार्टी अगर ऐसा मौका देगी, तो वे खुशी- खुशी लड़ेंगे और उससे पीछे नहीं हटेंगे.

उधर अजय कुमार के जमशेदपुर लोकसभा सीट पर चुनाव नहीं लड़ने की खबर से कांग्रेसी मायूस हैं. एक तरफ वे सोशल मीडिया में आग उगल रहे हैं, तो दूसरी तरफ डॉ. अजय कुमार को खड़ा करने की मांग को लेकर धरना- प्रदर्शन औऱ भूख हड़ताल तक कर रहे हैं. बुधवार को जिलाध्यक्ष विजय खान के इस आश्वासन के बाद तिलक पुस्तकालय में धरना और भूख हड़ताल पर बैठे कांग्रेसी हटे कि जब डॉ. अजय कुमार शहर आएंगे, तो कार्यकर्ताओं की इस भावना से अवगत कराया जाएगा. कांग्रेसी इस बात पर अड़े हैं कि यहां डॉ. अजय कुमार ही लड़ें और सीट झामुमो को न दिया जाए.

काफी दिनों की रस्साकासी के बाद गठबंधन धर्म को लेकर ये फैसला हुआ तो राजनीतिक हलकों में इसे कांग्रेस को बैक फुट पर आना कहा जा रहा है. हालांकि कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता ऐसा नहीं मानते. वे कह रहे कि गठबंधन धर्म के तहत डॉ. अजय के इस फैसले की इज्जत करते हुए वे गठबंधन धर्म निभाएंगे. साथ ही वे झामुमो को भी याद दिला रहे हैं कि लोकसभा के बाद विधानसभा चुनाव जब होगा, तब गठबंधन धर्म निभाने की बारी उनकी होगी.

बता दें कि जमशेदपुर सीट पर 1984 के बाद से कांग्रेस जीत नहीं पाई है. 1984 से पहले अधिकतर समय कांग्रेस का ही इस सीट पर कब्जा रहा था. 1989 में झामुमो के टिकट पर शैलेन्द्र महतो ने जीत हासिल की और तब से कभी भाजपा, तो कभी झामुमो ने यह सीट जीती है. बीच में 2011 के लोकसभा उपचुनाव में तत्कालीन जेवीएम प्रत्याशी डॉ. अजय कुमार ने जीत हासिल की थी. लेकिन पिछले लोकसभा चुनाव में मोदी लहर में अजय कुमार भाजपा के विद्युत वरण महतो के हाथ लगभग एक लाख मतों से हार गए थे.

रिपोर्ट- अन्नी अमृता

ये भी पढ़ें- झारखंड महागठबंधन में 7-4-2-1 का फॉर्मूला फिक्स! दो-तीन दिन में होगा औपचारिक ऐलान
Loading...

झारखंड, ओडिशा के अलावा इन राज्यों में भी लोकसभा चुनाव लड़ सकता है जेएमएम

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमशेदपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 14, 2019, 2:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...