कंबल घोटाला: जेएमएम विधायक ने सरकार पर साधा निशाना, विजिलेंस जांच की मांग

कुणाल षाडंगी, जेएमएम एमएलए
कुणाल षाडंगी, जेएमएम एमएलए

विधायक ने कहा कि इस घोटाले से 10 हजार बुनकरों का हक छीना गया है, जो अल्पसंख्यक समुदाय से आते हैं

  • Share this:
झारक्राफ्ट से जुड़े कंबल घोटाले को लेकर झामुमो ने रघुवर सरकार पर जमकर हमला बोला. जमशेदपुर में जेएमएम विधायक कुणाल षाडंगी ने बुनकरों के भुगतान रूकने के इस मामले की विजिलेंस जांच की मांग की और सरकार की ओर से गृह सचिव को जांच कमेटी का अध्यक्ष बनाए जाने पर सवाल खड़े किए.

जेएमएम विधायक ने कहा कि इस मामले के दोषी पदाधिकारी बर्खास्त होने चाहिए. कंबल की फिनिशिंग के लिए जिस नूतन इंटरप्राइजेज कंपनी को टेंडर दिया गया, उसे के रवि कुमार अब फर्जी बता रहे हैं ताकि मामले की लीपापोती हो सके. जबकि इसी कंपनी के साथ मोमेंटम झारखंड के तहत सरकार ने एमओयू किया है.

विधायक ने कहा कि इस घोटाले से 10 हजार बुनकरों का हक छीना गया है, जो अल्पसंख्यक समुदाय से आते हैं. ये दर्शाता है कि सरकार को अल्पसंख्यक समुदाय की कोई फिक्र नहीं है.



गौरतलब है कि दो दिन पूर्व झारक्राफ्ट की सीईओ रेणु गोपीनाथ पणिक्कर ने ये कहकर इस्तीफा दे दिया कि उद्योग निदेशक केरवि कुमार ने कमीशनखोरी के चक्कर में बुनकरों का भुगतान रोक दिया है. रेणु ने झारक्राफ्ट के पूर्व एमडी पर आरोप लगाया कि सीएम की ओर से 250 करोड़ के काम झारक्राफ्ट से करवाने के निर्देश के बावजूद कमीशनखोरी के चक्कर में घोटाले को अंजाम दिया गया.
 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज