लाइव टीवी

खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष के बेटे की शादी में भव्यता रही मुखर, नीतियां गौण
Jamshedpur News in Hindi

Ajay Lal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: November 27, 2015, 7:59 PM IST
खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष के बेटे की शादी में भव्यता रही मुखर, नीतियां गौण
ब्याह के मौसम में जमशेदपुर में हुई एक शाही शादी आज कल पूरे सूबे में चर्चा का विषय बनी हुई है. शादी का पंडाल ऐसा था मानो इन्द्रासन से उठाकर धरती पर लगा दिया गया हो. छप्पन प्रकार के व्यंजन परोसे गए थे.

ब्याह के मौसम में जमशेदपुर में हुई एक शाही शादी आज कल पूरे सूबे में चर्चा का विषय बनी हुई है. शादी का पंडाल ऐसा था मानो इन्द्रासन से उठाकर धरती पर लगा दिया गया हो. छप्पन प्रकार के व्यंजन परोसे गए थे.

  • Share this:
ब्याह के मौसम में जमशेदपुर में हुई एक शाही शादी आज कल पूरे सूबे में चर्चा का विषय बनी हुई है. शादी का पंडाल ऐसा था मानो इन्द्रासन से उठाकर धरती पर लगा दिया गया हो. छप्पन प्रकार के व्यंजन परोसे गए थे.

झूमर झालर से सजा भव्य सेट और वीआईपी अतिथियों की लंबी फेहरिस्त शायद ही हाल के दिनों में किसी ने देखा हो. बात हो रही है खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष जयनन्दू के सुपुत्र ज्ञानेन्दु प्रकाश के बारात के लिये आयोजित शादी समारोह की. बीते 25 नवम्बर को हुई शादी के नजारे को देखकर जमशेदपुर के लोगों ने दांतो तले अंगुली दबा ली.

बारात रांची से जमशेदपुर गयी थी. जाहिर तौर पर बारात के लिए वह सारी सुविधा उपलब्ध करायी गयी थी जो खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष जयनन्दू की नीतियों से मेल नहीं खाता. भव्य पंडाल और पंडाल के भीतर अति आधुनिक साज सजावट के साथ वह सारा कुछ मौजूद था जिसके बारे में आम आदमी सोचने तक की हिम्मत नहीं कर सकता. और फिर शादी का भव्य कार्ड खादी की नीतियों को आईना दिखा रहा था.



नदारद रही नीतियां, प्रदर्शन का बोलबाला



खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष जयनन्दू के कार्यालय में झाडू से लेकर कुर्सी तक और पर्दे से लेकर सोफा तक पर खादी की नीतियों का लबादा ओढाया गया है. लेकिन जमशेदपुर में भव्य पंडाल में बारातियों के स्वागत के गवाह बने जयनन्दू शादी समारोह में अपनी नीतियों को तिलांजलि देते नजर आये.

आमतौर पर खादी के पेपर पर ही आमंत्रण पत्र तैयार कराने वाले जयनन्दू के बेटे के आमंत्रण पत्र में भी खादी नदारद दिखी. हर जगह भव्यता, प्रदर्शन का बोलबाला रहा. वरिष्ठ पत्रकार बैद्यनाथ मिश्र इस मसले पर कहते हैं कि शादी विवाह पर इस तरह के प्रदर्शन का समर्थन नहीं किया जा सकता.

दस सालों से कुर्सी पर काबिज रहने का कमाल

जयनन्दू वर्ष 2004 के दिसम्बर में खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष बने थे. उस वक्त के उद्योग मंत्री पीएन सिंह ने उनकी नियुक्ति को हरी झंडी दी थी और तब से लेकर आज तक कोई भी सरकार इतनी औकात में नहीं रही जो उनकी कुर्सी से छेड़छाड़ कर सके. लिहाजा, उनकी कुर्सी और उनका अध्यक्ष पद चिरस्थायी पद का गवाह बन गया है.

प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री कामेश्वर गिरी इसे बड़ी कला करार देते हैं. वे कहते हैं कि भ्रष्टतम युग में दस ग्यारह साल से चेयरमैन की कुर्सी को बरकरार रखना बड़ी बात है. पत्रकार बैद्यनाथ मिश्र भी कहते हैं कि जयनंदू जिस पद पर हैं, वह राजनीतिक नियुक्ति है.

इन दस वर्षों में कई सरकार आयी और गईं. इन सबके बीच अपनी कुर्सी बचाए रखना बेशक एक कला है. उधर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता कहते हैं कि प्रदेश के आयोग, गठन आदि की समीक्षा होनी है. इसमें जो विसंगति है, जल्द ही दूर कर ली जाएगी.

बहरहाल, सवाल यह नहीं कि खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष जयनन्दू ने अपने पुत्र के विवाह समारोह में इतनी भव्यता कैसे स्वीकार कर ली. सवाल यह भी नहीं कि जयनन्दू किस जादू के तहत पिछले 11 सालों से खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष बने हैं.

सवाल यह कि खादी और सादगी की बात करने वाले जयनन्दू अब लोगों को किस तरह से जवाब देंगे. 25 नवम्बर का अदभुत नजारा देखने के बाद अब 28 नवम्बर को लोगों को जिमखाना क्लब में होने वाले रिसेप्शन समारोह का बेसब्री से इंतजार है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमशेदपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2015, 7:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading