लाइव टीवी

राष्ट्रीय पुरुष आयोग बनाने की मांग को लेकर एनजीओ देगी दिल्ली में धरना

Anni Amrita | News18 Jharkhand
Updated: September 25, 2018, 6:07 PM IST
राष्ट्रीय पुरुष आयोग बनाने की मांग को लेकर एनजीओ देगी दिल्ली में धरना
सेव इंडियन इनोसेंट फैमिली संस्था के सदस्य पुरुष आयोग की मांग करते हुए

झारखंड के जमशेदपुर की एक एनजीओ सेव इंडियन इनोसेंट फैमिली के सदस्य 2 अक्टूबर को दिल्ली के जंतर मंतर पर धरना देकर और भूख हड़ताल करके राष्ट्रीय पुरुष आयोग बनाने की मांग करेंगे.

  • Share this:
झारखंड  के जमशेदपुर की एक एनजीओ सेव इंडियन इनोसेंट फैमिली के सदस्य 2 अक्टूबर को दिल्ली के जंतर मंतर पर धरना देकर और भूख हड़ताल करके राष्ट्रीय पुरुष आयोग बनाने की मांग करेंगे.इस संस्था से जुड़े लोग अपने निजी जीवन में भुक्तभोगी हैं कि कैसे महिलाओं से जुड़े कानूनों की आड़ में कुछ मामलों में परिवार बिखर गए. इन लोगों के मुताबिक कई बेकसूर पुरुष जेल भी चले गए.भले ही बाद में वे पुरुष बाइज्जत बरी हुए लेकिन जीवन के एक दशक झूठे आरोपों की भेंट चढ़ गए और परिवार की भी बलि चढ़ गई.

संस्था मानती है कि महिलाओं पर अत्याचार होते हैं लेकिन कई मामलों में पुरुषों पर भी अत्याचार होता है. ये अलग बात है कि कानून उनकी नहीं सुनता.मंगलवार को संस्था ने प्रेसवार्ता कर बताया कि नेशनल क्राईम ब्यूरो का ही अगर उदाहरण ले लिया जाए पता चलेगा कि देश में 96 हजार से ज्यादा पुरुष आत्महत्या कर चुके हैं जिनमें बक्सर के डीएम रह चुके मुकेश पांडेय से लेकर कानपुर के युवा आईपीएस सुरेन्द्र दास तक शामिल हैं.

विदित हो कि पुरुष आयोग की मांग कोई नई नहीं है.देश की राजधानी दिल्ली से भी कई बार विभिन्न मंचों से उठती रही है.कई स्वयंसेवी संस्थाएं पुरुष उत्पीड़न के खिलाफ मंच बना चुकी हैं. यूपी के बरेली में राफिया शबनम नामक महिला की बनाई संस्था सबका हक के बैनर तले जहां महिलाओं के हक की लड़ाई लड़ी जा रही है, वहीं पुरुष उत्पीड़न के खिलाफ भी यह संस्था लड़ रही है.

यह भी पढ़ें - मानव तस्करी की शिकार 16 बच्चियां लाई गई रांची

यह भी पढ़ें - मात्र दो रुपये के भाड़ा विवाद में ऑटो चालक ने कर दी यात्री की हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमशेदपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 25, 2018, 5:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...