• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • घाटशिला जेल में बंद नक्सली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनाएंगे निर्माता इकबाल दुर्रानी, विरोध शुरू

घाटशिला जेल में बंद नक्सली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनाएंगे निर्माता इकबाल दुर्रानी, विरोध शुरू

बॉलीवुड फिल्म निर्माता इकबाल दुर्रानी ने नक्सली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनाने की घोषणा की.

बॉलीवुड फिल्म निर्माता इकबाल दुर्रानी ने नक्सली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनाने की घोषणा की.

बॉलीवुड फिल्म निर्माता इकबाल दुर्रानी हाल में झारखंड आये हुए थे. उन्होंने जमशेदपुर में एक प्रेसवार्ता कर नक्सली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनाने की घोषणा की.

  • Share this:
    पूर्वी सिंहभूम. नक्सली (Naxal) कान्हू मुंडा (Kanhu Munda) की जीवनी पर फिल्म (Film) बनाने की घोषणा का विरोध (Protest) होने लगा है. फिल्म निर्माता इकबाल दुर्रानी ( Iqbal Durrani) ने जमशेदपुर में इसका ऐलान किया. लेकिन घाटशिला स्थित नागरिक सुरक्षा समिति के लोगों ने इसका विरोध शुरू कर दिया है. समिति के अध्यक्ष शौलेन बास्के ने इस सिलसिले में जिले के उपायुक्त और एसएसपी को आवेदन देकर अपनी आपत्ति दर्ज कराई है. बास्के का कहना है कि नकसली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनने से गलत विचारधारा वाले लोगों का मनोबल बढ़ेगा. नागरिक सुरक्षा समिति घाटशिला के ओडिशा सीमा से सटे गुड़ाबांधा इलाके में नक्सलियों से लोहा लेती है.

    इकबाल दुर्रानी ने किया फिल्म बनाने का ऐलान

    बॉलीवुड फिल्म निर्माता इकबाल दुर्रानी हाल में झारखंड आये हुए थे. उन्होंने जमशेदपुर में एक प्रेसवार्ता कर नक्सली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनाने की घोषणा की. नक्सली कान्हू मुंडा गुड़ाबांधा प्रखंड के जियान गांव का रहने वाला है. तीन साल पहले उसने अपने सात साथियों के साथ आत्मसमर्पण किया था. फिलहाल वह घाटशिला जेल में है.

    डीसी को पत्र सौंपकर जताई आपत्ति 

    नागरिक सुरक्षा समिति के अध्यक्ष शौलेन बास्के ने कहा कि नक्सली हिंसा में मारे गये लोगों को आज भी मुआवजा नहीं मिला है. समिति ने जिले के उपायुक्त को आवेदन सौंपकर नकस्ली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनाने की घोषणा का विरोध किया है. आवेदन की प्रतिलिपि एसएसपी को भी दी गई है. आवेदन में कहा गया है कि नक्सली कान्हू मुंडा पर फिल्म बनती है, तो गलत विचारधारा वाले लोगों का मनोबल बढ़ेगा. कान्हू मुंडा ने ऐसा कौन सा अच्छा काम किया, जिसके चलते उसपर फिल्म बनाने की जरूरत आ पड़ी है. नक्सलियों ने सिर्फ निर्दोष, गरीब और पुलिस-प्रशासन के लोगों की हत्याएं की है. विकास के काम के बाधक रहे हैं.

    'शहीदों पर बने फिल्म'

    शौलेन बास्के का कहना है कि अगर फिल्म बनानी है, तो शहीद, घायल व विस्थापितों पर बनना चाहिए. नक्सली समस्या के समाधान में समिति की अहम भूमिका रही है. आज हमारी वजह से नक्सली मुख्यधारा से जुड़ने एवं आत्मसमर्पण करने को मजबूर हो रहे हैं.

    रिपोर्ट- प्रभंजन कुमार



    ये भी पढ़ें- रिम्स में महिला डॉक्टर से सरेआम छेड़खानी, आरोपी इंजीनियरिंग का छात्र गिरफ्तार

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज