एटीएस ने की अल कायदा के आरोपी कलीमुद्दीन के घर की कुर्की

Anni Amrita | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 16, 2017, 7:24 PM IST
एटीएस ने की अल कायदा के आरोपी कलीमुद्दीन के घर की कुर्की
जमशेदपुर में अल कायदा के संदिग्ध कलीमुद्दीन का घर
Anni Amrita | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 16, 2017, 7:24 PM IST
जमशेदपुर में अल कायदा नेटवर्क को मजबूत करने के आरोपी संदिग्ध मौलाना कलीमुद्दीन के मानगो आजादनगर स्थित घर की शनिवार को कुर्की की गई. एटीएस ने स्थानीय पुलिस के सहयोग से कुर्की की. हालांकि घर में सामान ज्यादा नहीं थे जिससे पता चलता है कि कुर्की की आशंका को देखते हुए पहले ही तैयारी कर ली गई थी.

बता दें कि जमशेदपुर में अल कायदा नेटवर्क फैलाने के आरोपी मौलाना कलीमुद्दीन को 2016 में पुलिस ने संदेह के आधार पर पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था और आगे उसे गिरफ्तार करने की तैयारी कर ली गई थी. लेकिन पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाकर, पीएमओ कार्यालय तक शिकायत पहुंचाकर और स्थानीय जनता को अपने पक्ष में करके मौलाना कलीमुद्दीन पुलिस की गिरफ्त से निकलने में सफल रहा था. लेकिन पुलिस की गिरफ्त से छूटने के बाद वह शहर से फरार हो गया.

एटीएस ने जमशेदपुर में अल कायदा नेटवर्क फैलाने के मामले को लेकर अब्दुल रहमान कटकी, मोहम्मद सामी, अहमद मसूद , नसीम अख्तर, मौलाना कलीमुद्दीन समेत 29 लोगों के खिलाफ जमशेदपुर कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल किया है. इनमें कटकी, सामी, नसीम और मसूद और जीशान अली जेल में हैं जबकि कलीमुद्दीन समेत अन्य संदिग्ध फरार हैं. कुछ दिनों पूर्व ही जीशान अली को दिल्ली में स्पेशल टीम ने गिरफ्तार किया था जिसका घर मानगो के आजादनगर में है.

बता दें कि दिसंबर 2015 को दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने उड़ीसा से अब्दुल रहमान कटकी और जनवरी 2016 को दिल्ली के पास से जमशेदपुर के धतकीडीह के रहनेवाले मोहम्मद सामी को गिरफ्तार किया था. इन दोनों से पूछताछ में ये खुलासा हुआ था कि कटकी उड़ीसा में अल कायदा का आतंकी शिविर चलाता है जिसमें भर्ती करने के लिए युवकों को प्रेरित करने का कार्य किया जाता है.

कटकी का जमशेदपुर के मानगो में आना जाना होता था जिसकी व्यवस्था मौलाना कलीमुद्दीन करता था. धतकीडीह के मोहम्मद सामी की मानगो में ही कटकी से मुलाकात हुई थी. सामी कटकी के आतंकी शिविर में भाग लेने के साथ-साथ पाकिस्तान में भी प्रशिक्षण लेने की बात सामने आई थी.
First published: September 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर