जमशेदपुर: जुस्को कार्यालय के सामने सफाईकर्मियों का उग्र प्रदर्शन, काम से हटाने का आरोप

सफाईकर्मियों ने जुस्को प्रबंधन पर काम से हटाने का आरोप लगाया
सफाईकर्मियों ने जुस्को प्रबंधन पर काम से हटाने का आरोप लगाया

जमशेदपुर में सैकड़ों की संख्या में सफाईकर्मी (Scavengers) जुस्को कार्यालय के सामने पहुंचकर जोरदार प्रदर्शन (Protest) किया. इनका आरोप है कि कंपनी द्वारा कोरोना संकट (Corona Crisis) की इस घड़ी में काम से हटाया जा रहा है.

  • Share this:
जमशेदपुर. झारखंड के जमशेदपुर (Jamshedpur) में जुस्को प्रबंधन ने शहर की साफ- सफाई के लिए हजारों सफाईकर्मियों (Scavengers) को रोजगार दिया. लेकिन अब कोरोना संकट (Corona Crisis) में सैकड़ों सफाईकर्मियों को हटाया जा रहा है. इसके विरोध में सफाईकर्मियों ने जुस्को कार्यालय का घेराव किया.

जुस्को टाटा स्टील की सहयोगी कंपनी है. कंपनी के ऑफिस के सामने सफाईकर्मियों ने जोरदार प्रदर्शन किया. सफाईकर्मियों ने बताया कि उन्हें एक महीने में सिर्फ 6 से 8 दिन ही काम पर बुलाया जा रहा है. जिससे उनके सामने घर चलाने की समस्या पैदा हो गई है. सफाईकर्मियो ने हटाये गये लोगों को काम पर रखने की मांग की.

वार्ता से मामला सुलझाने की कोशिश 



सफाईकर्मियों के विरोध को देखते हुए मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई. प्रशासन द्वारा जुस्को प्रबंधन और सफाईकर्मियों में वार्ता करवा कर मामले को शांत करवाने की कोशिश की जा रही है.
सफाईकर्मी संघ का आरोप

सफाईकर्मी संघ के अध्यक्ष का कहना है कि कोरोना महामारी के दौरान अपनी जान पर खेल कर सभी ने काम किया, तब किसी को नहीं बैठाया गया. लेकिन अब सैकड़ों लोगो को बैठाया जा रहा है. ऐसा क्यों? रोजगार से हटाने पर इनके लिए परिवार का पेट चलाना मुश्किल हो गया है. अगर जल्द ही सबको काम पर वापस नहीं बुलाया गया, तो सभी सफाईकर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चल जाएंगे.

जुस्को की सफाई 

वहीं जुस्को प्रबंधन के द्वारा कहा गया कि किसी को काम से नहीं हटाया गया है. कई कार्यालय कोरोना के चलते बंद हैं. लिहाजा काफी कम काम हो रहा है. इसको देखते हुए कुछ लोगों को 28 दिन की जगह मात्र 10 दिन ही काम पर बुलाया जा रहा है. स्थिति सामान्य हो जाएगी, तो फिर सभी को काम पर बुलाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज