Home /News /jharkhand /

वीमेंस कॉलेज में हंगामा, छात्र नेताओं ने तालाबंदी कर छात्राओं को अंदर जाने से रोका

वीमेंस कॉलेज में हंगामा, छात्र नेताओं ने तालाबंदी कर छात्राओं को अंदर जाने से रोका

कोल्हान विश्वविद्यालय के अंतर्गत कॉलेजों में शिक्षा की क्या दुर्दशा हो रही है उसकी एक बानगी बुधवार को जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज में देखने को मिली जहां सुबह से घंटों हाई वोल्टेज ड्रामा और हंगामा चलता रहा।

कोल्हान विश्वविद्यालय के अंतर्गत कॉलेजों में शिक्षा की क्या दुर्दशा हो रही है उसकी एक बानगी बुधवार को जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज में देखने को मिली जहां सुबह से घंटों हाई वोल्टेज ड्रामा और हंगामा चलता रहा।

कोल्हान विश्वविद्यालय के अंतर्गत कॉलेजों में शिक्षा की क्या दुर्दशा हो रही है उसकी एक बानगी बुधवार को जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज में देखने को मिली जहां सुबह से घंटों हाई वोल्टेज ड्रामा और हंगामा चलता रहा।

    कोल्हान विश्वविद्यालय के अंतर्गत कॉलेजों में शिक्षा की क्या दुर्दशा हो रही है उसकी एक बानगी बुधवार को जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज में देखने को मिली जहां सुबह से घंटों हाई वोल्टेज ड्रामा और हंगामा चलता रहा।

    कॉलेज परिसर के बाहर कुछ मांगों को लेकर अनशन पर बैठे छात्र नेताओं और आजसू कार्यकर्ताओ ने जब हंगामा शुरू कर दिया और छात्राओं को गेट के भीतर प्रवेश करने से रोका साथ ही तालाबंदी कर दी तो कुछ देर के लिए वहां अफरा तफरी मच गई।

    गेट पर हजारों छात्राएं जमा हो गईं और जबरन उनलोगों ने गेट खुलवा दिया। हालात देखते हुए पुलिस को सूचना दी गई और तब जाकर मामला शांत हुआ, लेकिन कॉलेज प्रबंधन और छात्र नेता एक दूसरे पर दोषारोपण कर रहे हैं।

    आए दिन होते हैं ऐसे हालात
    कोल्हान विश्वविद्यालय के अंतर्गत अनेकों कॉलेजों में ऐसे दृश्य आम हैं। कुछ साल पहले तक वीमेंस कॉलेज की एक अलग पहचान थी जो शिक्षा और नौकरी के अवसर मिलने को लेकर देश में एक अच्छा ब्रांड बनकर उभरा था। लेकिन अब हालात बदल गए हैं। पिछले कुछ महीनों के दौरान दो-दो प्राचार्या बदले जा चुके हैं।

    कॉलेज के बाहर जो छात्र नेता अनशन पर बैठे थे वह पूर्व प्राचार्य सह वर्तमान प्रोफेसर वीसी शुक्ला मोहंती के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं और वर्तमान प्राचार्य सुजाता सिन्हा को हटाकर उससे पहले की प्राचार्य सुमिता मुखर्जी को प्राचार्य बहाल करने की मांग कर रहे हैं। इनका कहना है कि वित्तीय अनियमितताओं की जांच के समय ही साजिश करके सुजाता मुखर्जी को हटाया गया।

    छात्राएं चाहती हैं कॉलेज का हो विकास
    कॉलेज की छात्राएं इस माजरे को नहीं समझ पा रही हैं। उन्हें इस बात से कोई मतलब नहीं कि प्राचार्य कौन बनता है बल्कि वह चाहती हैं पढ़ाई समय पर हो और समय पर उन्हें डिग्री मिले, कॉलेज में अच्छा माहौल मिले।

    कॉलेज की प्राचार्या सुजाता सिन्हा ने अनशन पर बैठे छात्रों पर आरोप लगाया कि उनलोगों के हंगामे की वजह से कॉलेज का पूरा कार्य कुछ घंटों के लिए ठप हो गया और छात्राओं की पढाई बाधित रही। साथ ही छात्राओं को फॉर्म भरने और चालान जमा करने में भी देर हुई। उधर अनशन पर बैठे छात्र नेताओं की जिद है कि वीसी यहां आएं और अपना पक्ष रखें।
    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर