यह पुल मार्च तक पानी में डूबा रहेगा

RP Singh | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: October 14, 2017, 12:48 AM IST
यह पुल मार्च तक पानी में डूबा रहेगा
पानी में डूबे पुल से होकर गुजरते आम जन
RP Singh | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: October 14, 2017, 12:48 AM IST
जामताड़ा का निलदाहा लदना पुल एक बार फिर दशहरा बाद पानी में डूब गया. यह पुल अब मार्च के प्रथम सप्ताह तक जल समाधि में रहेगा. इस वजह से छोटे-बड़े 50 गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया है. पुल के पानी में डूब जाने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. जो लोग अपने अनिवार्य कार्य को नहीं टाल सकते वे पानी में डूबे पुल से होकर ही इस पार से उस पार जाने को मजबूर हैं.

पानी से भरे पुल से होकर लोगों का इस तरह आना जाना करना जोखिम भरा है. ऐसे में कभी भी किसी भी तरह की दुर्घटना घट सकती है. बता दें कि पुल के पानी में डूबने और फिर इसके मार्च के प्रथम सप्ताह में खुलने की घटना हर साल होती है. हर वर्ष दुर्गा पूजा के बाद मैथन डैम जल संग्रह के लिए डैम का गेट बंद कर दिया करता है. इसका सीधा असर कृषि उत्पाद, बच्चों के पठन पाठन और रोगियों के उपचार पर पड़ता है.

बता दें कि इससे निजात पाने के लिए वर्तमान सरकार के प्रयास से तिलाबाद निलदाहा लदना पथ का काम प्रगति पर है. सरकार 18 करोड़ की राशि की मदद से 11.50 किलो मीटर लंबी सड़क बनवा रही है. इस सड़क की चौड़ाई 5.5 मीटर होगी जिसमें अलग से 1.60 करोड़ व्यय कर 49.2 मीटर लंबी पुल बनाई जा रही है.

इसके अगले वर्ष तक तैयार हो जाने की संभावना है. सरकार के इस पहल का जहां लोग सराहना कर रहे हैं वहीं इसकी निगरानी कर रहे इंजीनियर इस बात से गौरवान्वित हैं कि इसके बनते ही जामताड़ा का लदना पर्यटन के मानचित्र पर आ जाएगा. लदना प्रकृति के अनमोल छटा को संजो कर रखे हुए है.
First published: October 14, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर