• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • जामताड़ा: मरीज की मौत के बाद भी नहीं जागा सदर अस्पताल प्रशासन, बिना डॉक्टर के डायलिसिस जारी

जामताड़ा: मरीज की मौत के बाद भी नहीं जागा सदर अस्पताल प्रशासन, बिना डॉक्टर के डायलिसिस जारी

जामताड़ा सदर अस्पताल में पिछले साल डायलिसिस के दौरान एक मरीज की मौत पर खूब बवाल मचा था.

जामताड़ा सदर अस्पताल में पिछले साल डायलिसिस के दौरान एक मरीज की मौत पर खूब बवाल मचा था.

Jamtara Sadar Hospital: लोगों का आरोप है कि जब कभी हो हंगामा होता है तो संचालन एजेंसी द्वारा कुछ दिन के लिए एक डॉक्टर को लाकर रख दिया जाता है. बाद में पुन: कंपाउंडर के सहारे ही सेंटर का संचालन होता है.

  • Share this:
    रिपोर्ट. सुमन भट्टाचार्य

    जामताड़ा. जामताड़ा का स्वास्थ विभाग लापरवाही के चलते कई बार विवादों से रहा है. एक बार फिर ऐसा मामला सामने आया है. जामताड़ा सदर अस्पताल (Jamtara Sadar Hospital) के डायलिसिस सेंटर में कंपाउंडर के सहारे मरीजों का डायलिसिस किया जाता है, जबकि इसके लिए चिकित्सक की उपस्थिति जरूरी है. ऐसे में बिना डॉक्टर के डायलिसिस मरीजों की जान से खेलने जैसा है.

    पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप मोड पर सदर अस्पताल में संजीवनी कंपनी के द्वारा संचालित डायलिसिस सेंटर में एक डॉक्टर की तैनाती है. लेकिन वह सिर्फ कागज पर ही है. डॉक्टर कभी दिखते भी नहीं हैं. जबकि कंपाउंडर के सहारे मरीजों का डायलिसिस किया जा रहा है. इस सेंटर में प्रत्येक दिन 3 से 4 मरीजों की डायलिसिस होती है.

    लोगों का आरोप है कि जब कभी हो हंगामा होता है तो संचालन एजेंसी द्वारा कुछ दिन के लिए एक डॉक्टर को लाकर रख दिया जाता है. बाद में पुन: कंपाउंडर के सहारे ही सेंटर का संचालन होता है.

    आपको बता दें कि पिछले वर्ष ही इस डायलिसिस सेंटर में बिना चिकित्सक के डायलिसिस किए जाने से एक मरीज की मौत डायलिसिस करने के दौरान हो गई थी. जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर जांच हुई थी. परंतु बाद में मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था.

    वहीं सवाल पूछने पर अस्पताल उपाधीक्षक डॉ चंद्रशेखर आजाद का कहना है कि बिना चिकित्सक के डायलिसिस होता है इसके लिए कंपनी को शो कॉज किया गया है. किसी भी हाल में बिना चिकित्सक की उपस्थिति के डायलिसिस नहीं किया जाना चाहिए.

    अस्पताल सूत्रों की माने तो इस बात की जानकारी सिविल सर्जन सहित कई अन्य अधिकारियों को भी है. परंतु संस्था पर ना तो कोई कार्रवाई की जा रही है और ना ही इस कार्य पर रोक लगाया जा रहा है. प्रत्येक दिन मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज