गर्मी में प्यास बुझाने के लिए दो कुएं खोदे, एक का नाम Corona दूसरे का Lockdown रखा
Jamtara News in Hindi

गर्मी में प्यास बुझाने के लिए दो कुएं खोदे, एक का नाम Corona दूसरे का Lockdown रखा
गर्मी में प्यास बुझाने के लिए दो कुएं खोदे, एक का नाम Corona दूसरे का Lockdown रखा

परिवारवालों ने बताया कि इससे पहले वे लोग गांव के पास के एक तालाब (Pond) से पानी लाकर सारा काम करते थे. हालांकि अभी कुएं (Well) से साफ पानी नहीं आ रहा है. लेकिन यह तालाब के पानी (Water) से अच्छा है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
जामताड़ा. जिले के पबिया पंचायत के सांवलापुर गांव में गर्मी (Summer) में पानी की दिक्कत से बचने के लिए दो परिवारों ने दो महीने में दो कुएं (Well) खोद लिये. इनमें से एक काम कोरोना (Corona), तो दूसरा का नाम लॉकडाउन (Lockdown) रखा गया है. परिवारवालों ने बताया कि गांव में तीन हैंडपंप हैं, लेकिन तीनों पिछले छह महीने से खराब पड़े हुए हैं. कई बार पंचायत प्रतिनिधियों को इस संबंध में जानकारी दी गई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. लिहाजा उन्होंने प्यास बुझाने के लिए खुद से कुआं खोदना का फैसला लिया. अब ये दोनों परिवार कुएं के पानी से न केवल घर का काम, बल्कि अन्य काम भी निबटाते हैं.

पहले तालाब का पानी पीते थे दोनों परिवार 

कुआं खोदने वाले अभि मोहली, ललित मोहली और राजेश मोहली ने बताया कि लॉकडाउन में उनका काम बंद हो गया है और वे सभी फिलहाल घर पर ही रह रहे हैं. गर्मी शुरू हो गई है और गांव में चालानल खराब होने के चलते पानी की समस्या होने लगी. गांव में 150 लोगों की आबादी है, लेकिन किसी भी घर में कुआं नहीं है. इसलिए उन्होंने फुर्सत के इस पल में अपने लिए कुएं खोदने का फैसला किया. उन्होंने बताया कि इससे पहले वे लोग गांव के पास के एक तालाब से पानी लाकर सारा काम करते थे. हालांकि अभी कुएं से साफ पानी नहीं आ रहा है. लेकिन यह तालाब के पानी से अच्छा है.



बांस का काम करते हैं गांंववाले 



सांवलापुर गांव के लोग बांस का काम कर गुजर-बसर करते हैं. लेकिन कोरोना लॉकडाउन में इनका धंधा बंद हो गया है. सामानों की बिक्री नहीं हो रही है. गांव के लोग बांस से टोकरी, सूप, डालिया आदि बनाकर बेचते हैं. गांववालों ने बताया कि लॉकडाउन से पहले बाहर से व्यापारी आकर उनका सामान खरीदते थे, लेकिन अब ये सब बंद है. ग्रामीणों ने कहना कि गांव में हैंडपंप खराब है. अब इस गर्मी में सरकार से कुआं मिल जाए, तो पीने के पानी के साथ-साथ फसलों की सिंचाई व अन्य जरुरत भी पूरी हो जाएगी. ग्रामीणों ने बताया कि सांवलापुर गांव में अबतक एक भी सरकारी कुएं का निर्माण नहीं कराया गया है.

ये भी पढ़ें- भीषण गर्मी को देखते हुए परिंदों के लिए दाना-पानी से लेकर आराम तक के इंतजाम
First published: June 2, 2020, 10:45 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading