लाइव टीवी
Elec-widget

Analysis: झारखंड में रघुवर सरकार को घेरने के लिए विपक्ष की नयी रणनीति

Anil Rai | News18Hindi
Updated: November 18, 2019, 2:33 PM IST
Analysis: झारखंड में रघुवर सरकार को घेरने के लिए विपक्ष की नयी रणनीति
BJP के बागी नेता सरयू राय जमशेदपुर की पूर्वी सीट से चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

सरयू राय BJP के ऐसा नेता रहे हैं, जिन्होंने मुख्यमंत्री रघुबर दास की खुलकर आलोचना की है? सवाल ये है कि क्या विपक्ष इसलिए ही उनको अपने पाले में करने में लगा है?

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2019, 2:33 PM IST
  • Share this:
झारखंड में मुख्यमंत्री रघुवर दास को घेरने के लिए विपक्षी दलों को बागी नेता सरयू राय के रूप में एक नया हथियार मिल गया है. बीजेपी से बगावत करने वाले सरयू राय मुख्यमंत्री के खिलाफ जमशेदपुर से मैदान में हैं. सरयू राय इसके पहले भी अक्सर मुख्यमंत्री रघुवर लाल और उनकी सरकार पर सवाल उठाते रहे हैं और अब तो उन्होंने बीजेपी और मुख्यमंत्री दोनों के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोल दिया है. जेएमएम अध्यक्ष हेमंत सोरन ने इसे विपक्षी दलों के लिए एक अच्छे अवसर के तौर पर लिया है. सोरेने ने सभी विरोधी दलों से जमशेदपुर ईस्ट सीट पर सरयू राय को समर्थन देने की अपील की है. हालांकि हेमंत के इस बयान पर कांग्रेस या किसी और विपक्षी दल ने अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

सरयू के बहाने BJP में सेंध लगाने का मौका

सरयू राय के मुख्यमंत्री रघुवार लाल की सीट जमशेदपुर ईस्ट से चुनाव लड़ने के ऐलान ने विपक्षी पार्टियों को मुख्यमंत्री रघुवर लाल को उन्हीं के किले में, उन्हें घेरने का मौका दे दिया है. ऐसे में विपक्ष कहां चूकने वाला है. झारखंड में विपक्ष का सबसे बड़ा चेहरा समझे जाने वाले झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष ने कांग्रेस समेत सभी विरोधी दलों से जमशेदपुर ईस्ट सीट पर सरयू राय का समर्थन करने की अपील कर डाली. साफ है विपक्ष विधनासभा चुनावों में मुख्यमंत्री रघुवर लाल को उन्हीं के किले में घेरने की किलेबंदी में लग गया है.

भ्रष्टाचार के खिलाफ ब्रांड बनाने की कोशिश


बीजेपी छोड़ने के साथ सरयू राय ने एक बार फिर भ्रष्टाचार के बहाने बीजेपी सरकार और पार्टी के कुछ नेताओं के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. सरयू राय ने कहा कि पार्टी के कुछ नेता उन्हें भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने देना नहीं चाहते. सूत्रों की मानें तो राय के इस बयान को हेमंत सोरेन चुनावी हथियार के रूप में इस्तेमाल करने में लगे हैं और इस नए हथियार से वे सिर्फ मुख्यमंत्री रघुवर लाल को उनकी सीट पर ही नहीं बल्कि इस नए बयान और पुराने बयानों आधार पर पूरे राज्य में भ्रष्टाचार को चुनावी मुद्दा बनाने में जुट गए हैं. हेमंत सरयू राय के बयानों का पूरा फायाद उठाने में लगे हैं और यही वो कारण है जिसके नाते हेमंत ने सरयू राय को 5 साल सरकार में रहते हुए भी भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने वाला नेता करार दिया. झारखंड की राजनीति को समझने वालों का मानना है कि झारखड में हर चुनाव में भ्रष्टाचार एक बड़ा मुद्दा होता है और इस चुनाव में भी भ्रष्टाचार बड़ा चुनावी मुद्दा है. ऐसे में सरयू के बहाने हेमंत सोरेन को सरकार पर हमला करने का एक और मौका मिल गया है और हेमंत इस मौके को किसी तरह छोड़ना नहीं चाहते.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमशेदपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 2:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...