लाइव टीवी

डीसी ने अनुसंधान के लिए आधुनिक तकनीक अपनाने पर दिया बल

Shailendra | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 15, 2017, 4:24 PM IST
डीसी ने अनुसंधान के लिए आधुनिक तकनीक अपनाने पर दिया बल
खूंटी- आलाधिकारियों की बैठक

खूंटी के डीसी कार्यालय के सभागार में आलाधिकारियों की बैठक आयोजित की गई.

  • Share this:
खूंटी के डीसी कार्यालय के सभागार में आलाधिकारियों की बैठक आयोजित की गई. इस बैठक में जिले में अपराध अनुसंधान से जुड़े सभी पुलिस अधिकारियों और कोर्ट के सरकारी वकीलों के साथ व्यवहार न्यायालय के सभी जज उपस्थित हुए. साथ ही बैठक में सभी थाना के प्रभारी, इंस्पेक्टर एवं एसडीपीओ भी मौजूद थे.

बैठक में खूंटी के डीसी डॉ. मनीष रंजन ने कांडों के अनुसंधान में आधुनिक तकनीकों के साथ सबूतों को इक्ट्ठा करने पर बल दिया. उन्होंने साइबर क्राइम के बढ़ते मामलों को लेकर जिले में आईटी सेल स्थापित करने पर भी जोर दिया. डीसी का मानना है कि आईटी सेल की स्थापना से मामलों के अनुसंधान में तेजी आएगी. इससे अपराधियों तक पहुंचना आसान हो जाएगा और केसों का हल जल्दी निकलेगा. उन्होंने कहा कि झारखंड के रांची, गुमला और जामताड़ा में आईटी के सेल को इस तरह क्रिएट किया गया है कि जो भी प्रमाण है उसे शेयर किया जा सकता है.

उन्होंने कहा कि पुलिस कोशिश तो बहुत करती है मगर कई बार इंवेस्टीगेशन में देखा जाता है कि सबूत के मामलों में एलर्टनेस की कमी के कारण कोर्ट में केस कमजोर पड़ जाता है. उन्होंने कहा कि मैं न्यायालय के अपने साथियों से आग्रह करूंगा कि जब चर्चा हो तब वे केस कमजोर न पड़ने के संदर्भ में विस्तार से जानकारी दें. ऐसा इसलिए ताकि किसी अपराधी को पकड़ने के लिए पुलिस की मेहनत कोर्ट में कमजोर न पड़े.

वहीं खूंटी व्यवहार न्यायालय के अपर न्यायायुक्त राजेश कुमार ने अपने संबोधन में अनुसंधान पदाधिकारियों से अनुसंधान के सभी बिंदुओं को लिखित में अंकित करने पर जोर दिया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खूंटी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 15, 2017, 4:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर