खूंटी गैंगरेप: मैं चीखती रही, दरिंदों ने नहीं सुनी

खौफनाक मंजर को एक महीने से ज्‍यादा का वक्‍त हो चुका है, लेकिन आज भी वह लम्‍हा पीड़िताओं की रूह में जकड़ा हुआ है. ताउम्र न भूलने वाले इस मंजर को बयां करती हुई एक पीड़िता बताती हैं...

News18 Jharkhand
Updated: July 27, 2018, 12:04 PM IST
खूंटी गैंगरेप: मैं चीखती रही, दरिंदों ने नहीं सुनी
gangrape
News18 Jharkhand
Updated: July 27, 2018, 12:04 PM IST
झारखण्‍ड में खूंटी के कोचांग गांव में मानव तस्करी के खिलाफ  जागरूकता फैलाने गईं पांच युवतियों के साथ दिल दहला देने वाली गैंगरेप की घटना हुई. स्‍कूल से युवतियों को अगवा कर उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया.इस खौफनाक मंजर को एक महीने से ज्‍यादा हो चुका है, लेकिन आज भी वह लम्‍हा पीड़िताओं की रूह में जकड़ा हुआ है. न भूलने वाले इस मंजर को बयां करती हुईंं एक पीड़िता बताती हैं...

मैं उस खौफनाक मंजर को कैसे भूल सकती हूं. तारीख 19 जून और लगभग 12.30 बज चुके थे. मैं और मेरा पूरा ग्रुप खूंटी के कोंचाग गांव के मिशन स्‍कूल पहुंचा हुआ था. यहां हम सभी अपनी-अपनी परफॉर्मेंस में व्‍यस्‍त थे, तभी स्‍कूल के गेट के बाहर कुछ मोटर साइकिलों की आवाज आईं. चंद लम्‍हों में वह आवाज हमारे स्‍कूल के गेट के पास आकर ही बंद हो गई. देखते ही देखते धड़ाधड़ तीन लोग स्‍कूल के भीतर घुस आए. वे तीनों वहां पहुंच गए थे, जहां मैं और हमारे ग्रुप में शामिल चार अन्‍य युवतियां नुक्‍कड़ नाटक कर रहे थे.

सभी बच्‍चे हमें देख रहे थे. अचानक बाहरी तीन लोगों को देखकर मैं और सभी चौंक गए थे. आखिर ये लोग हैं कौन? जब तक हम कुछ समझ पाते स्‍कूल का माहौल बिल्‍कुल बदल चुका था. दरअसल वे  सभी नशे में धुत थे. उनके सर पर जैसे खून सवार हो. उन्‍हें देखकर बच्‍चे सहम गए थे. हमारे चेहरों पर डर की लकीरे खिंच चुकी थीं. मैं और मेरा ग्रुप उस डर को छिपाने की एक नाकाम कोशिश कर रहा था, लेकिन अफसोस हमारे चेहरे पर  अनहोनी के अंदेशों को साफ पढ़ा जा सकता था. हमारा दिमाग कुछ सोच-समझ पाता तभी नशे में धुत उन तीन लोगों ने हम पर चीखना-चिल्‍लाना शुरू कर दिया.

तभी तीनों शख्‍सों मेंं से एक ने हमारे ग्रुप में से पूछना शुरू किया हम कौन-कौन हैं? मैंने जवाब दिया कि मैं हूं. इसके बाद एक-एक कर वे सबका नाम पूछ रहे थे लेकिन शायद वे मुझे वे मेरे नाम से जानते थे. वे जानते थे कि मैं ग्रुप की लीडर हूं. वे मेरा पीछा कर रहे थे. नशे में धुत लोगों ने कहा कि तुम्‍हें मालूम नहीं है कि यह पत्थलगड़ी एरिया है. इसके बाद भी तुम लोग यहां कैसे आ गईं ?

मुझे अंदाजा लग चुका था कि कुछ गलत हो  सकताा है, फिर भी हम लोग डटे रहे, लेकिन अगले पल तक स्‍थितियां हमारे हाथ से निकल चुकी थीं. उन्‍होंने हमारे सर पर बंदूक रख दी थी. मैं और मेरे ग्रुप की अन्‍य चार युवतियां चीखती रहीं. उन लोगों के आगे हाथ-पैर जोड़ती रही, लेकिन वे जबरन हमें अपने साथ जंगलों में लेकर चले गए, जहां उन्‍होंने हम पांचों युवतियों के साथ रेप किया.

साभार:  द वॉयर  में प्रकाशित जावेद इकबाल की रिपोर्ट 

यह भी पढ़ें: खूंटी रेप: बोले हेमंत, अब दुष्कर्म और भूख से मौत के लिए जाना जाता है झारखंड
Loading...

यह भी पढ़ें: झारखंड: 5 युवतियों से गैंगरेप, DIG ने पत्थलगड़ी समर्थकों का हाथ होने की जताई आशंका 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खूंटी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 27, 2018, 11:32 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...