लाइव टीवी

खूंटी: 24 घंटे गुजरे, पर अगवा हुए सांसद करिया मुंडा के तीन सुरक्षाकर्मी का नहीं चला पता
Khunti News in Hindi

News18 Jharkhand
Updated: June 27, 2018, 10:54 PM IST

वहीं दिल्ली में सांसद करिया मुंडा ने न्यूज-18 से खास बातचीत में कहा कि पत्थलगड़ी वाले मेरे तीन हाउस गार्ड्स को ले गए हैं.

  • Share this:
भारतीय जनता पार्टी के सांसद करिया मुंडा के जिन तीन सुरक्षाकर्मियों को अगवा किया गया था, 24 घंटे गुजर जाने के बाद भी खूंटी प्रशासन उन्हें मुक्त नहीं करा पाया. बुधवार को  खूंटी प्रशासन अगवा हुए सुरक्षाकर्मियों को मुफ्त कराने की कोशिश में लगा था. खुद आईजी नवीन कुमार सिंह सुबह ही घाघरा गांव पहुंच गए थे. उनकी अगुवाई में जवानों की रिहाई के लिए सर्च अभियान चलाया जा रहा है. लेकिन अभी तक अगवा हुए सुरक्षाकर्मियों का कुछ पता नहीं चला.

इससे पहले बुधवार को प्रशासन की टीम ने घाघरा गांव में घुसकर प्रत्येक घर की तलाशी ली. लोगों से पूछताछ भी किया. जिले के डीसी सूरज कुमार के समझाने पर कई गांववालों ने प्रशासन के हवाले अपना तीर-धनुष कर दिया. लेकिन इन सबके बावजूद अगवा जवानों का पता नहीं चला था.

बुधवार सुबह जब प्रशासन की टीम घाघरा गांव घुसने की कोशिश कर रही थी, तो पत्थलगड़ी समर्थकों के साथ झड़प हो गई. इस दौरान लाठीचार्ज में एक शख्स की मौत हो गई थी. जबकि पुलिस ने पचास लोगों को हिरासत में लिया, जिन्हें शाम को छोड़ दिया गया.

इससे पहले बुधवार सुबह रैफ की टुकड़ी घाघरा गांव पहुंची, जिसके बाद सर्च ऑपरेशन शुरू हुआ. सिमडेगा, लोहरदगा, गुमला और चाईबासा के 20 बटालियन के जवान घाघरा गांव में ऑपरेशन में लगे हुए हैं. मंगलवार पूरी रात घाघरा गांव के बाहर एसपी और डीसी पुलिसबल के साथ तैनात रहे. वहीं ग्रामीण भी गांव के मुहाने पर डटे रहे.

क्या है पत्थलगड़ी की पूरी कहानी, यहां क्लिक करके पढ़ें

वहीं दिल्ली में सांसद करिया मुंडा ने न्यूज-18 से खास बातचीत में कहा कि पत्थलगड़ी वाले मेरे तीन हाउस गार्ड्स को ले गए हैं. यह पत्थलगड़ी समर्थक और पुलिस के बीच का मामला है. बतौर सांसद उनकी सुरक्षा बढ़ाने को लेकर राज्य सरकार को चिंता करनी चाहिए. गैर-कानूनी और समाज में अशांति फैलाने वालों के लिए कानून बना है. सरकार को कदम उठाना है. कोशिश करनी चाहिए कि मामला सुलझ जाए.

बता दें कि मंगलवार दोपहर पत्थलगड़ी समर्थकों के साथ पुलिस की झड़प के बाद करीब दो सौ समर्थकों ने अनिगड़ा गांव पहुंच सांसद करिया मुंडा के तीन सुरक्षाकर्मियों को अगवा कर लिया. उन्हें घाघरा ले जाया गया और ग्रामसभा में बंधक बनाकर रखा गया. पत्थलगड़ी समर्थकों की मांग है कि राष्ट्रपति, राज्यपाल और सुप्रीम कोर्ट के जज ग्रामसभा में आकर पत्थलगड़ी पर बहस करें, उसके बाद अपहृत जवानों को छोड़ा जाएगा.(ओम प्रकाश की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें-  खूंटीः पत्थलगड़ी में सांसद करिया मुंडा के अंगरक्षकों को बचाने के लिए ऑपरेशन शुरू

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खूंटी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 27, 2018, 9:06 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर