होम /न्यूज /झारखंड /देहरादून में आयोजित होने वाले सीनियर कराटे नेशनल चैंपियनशिप के लिए झारखंड के खिलाड़ी जमकर बहा रहे पसीना

देहरादून में आयोजित होने वाले सीनियर कराटे नेशनल चैंपियनशिप के लिए झारखंड के खिलाड़ी जमकर बहा रहे पसीना

सीनियर नेशनल कराटे चैंपियनशिप के लिए खूंटी के बच्चे जमकर पसीना बहा रहे हैं.

सीनियर नेशनल कराटे चैंपियनशिप के लिए खूंटी के बच्चे जमकर पसीना बहा रहे हैं.

Senior Karate National Championship: देहरादून में 4 और 5 अक्टूबर को सीनियर नेशनल कराटे चैंपियनशिप का आयोजन होगा. इसमें ...अधिक पढ़ें

रांची. झारखंड के पिछड़े जिलों में शुमार खूंटी इनदिनों कराटे के क्षेत्र में अपनी नई पहचान गढ़ने में जुटा हुआ है. उत्तराखंड के देहरादून में होने वाले सीनियर कराटे नेशनल चैंपियनशिप (Senior Karate National Championship) में झारखंड की टीम में शामिल कुल 13 खिलाड़ियों में 7 कराटेबाज खूंटी के ही हैं. तपती धूप में प्रैक्टिस में जुटे इन खिलाड़ियों में पदक जीतने को लेकर गजब का उत्साह नजर आ रहा है.

2 अक्टूबर को देहरादून के लिए रवाना होने वाले खूंटी के सातों खिलाड़ी इस बार कोई भी मौका छोड़ने के मूड में नजर नहीं आ रहे. सात खिलाड़ियों में 2 लड़कियां और 5 लड़के शामिल हैं. इस टीम में खूंटी की निराली गुड़िया और रॉबर्ट होरो बड़े नाम हैं. ये दोनों अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का कमाल दिखा चुके हैं.

अंतरराष्ट्रीय कराटे खिलाड़ी निराली गुड़िया बताती हैं कि 2015 में कॉमनवेल्थ में तकनीकी वजह से कांस्य पदक उनके हाथों से निकल गया था. उसके बाद से उन्होंने किसी भी टूर्नामेंट में चूक या गलती नहीं करने की शपथ ली है. वहीं दूसरी कराटेबाज आशा भेंगरा भी सीनियर कराटे नेशनल चैंपियनशिप के लिए कड़ी मेहनत करने में जुटी हुई हैं.

दरअसल इन सातों खिलाड़ियों के अलावा खूंटी में कराटेबाजो की एक पूरी फौज है, जो दिन रात ओलंपिक खेलने का सपना लेकर तपती धूप में प्रैक्टिस करने में जुटा है. खिलाड़ियों में निराली गुड़िया जहां 2016 में दिल्ली में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम में तकनीकी वजहों से कांस्य पदक से वंचित रह गई थी. वहीं लड़कों में रॉबर्ट होरो ने 2016 में साउथ एशियन गेम्स में गोल्ड जीता था. खिलाड़ियों के कोच और एशियन कराटे रेफरी एजाज भी खिलाड़ियों के प्रदर्शन से बेहद उत्साहित नजर आते हैं.

खूंटी में खिलाड़ियों को कराटे का प्रशिक्षण दे रहे कोच और एशियन रेफरी एजाज भी देहरादून में आयोजित चैंपियनशिप को लेकर बेहद उत्साहित हैं. उनकी माने तो झारखंड टीम का प्रदर्शन पिछली बार की तुलना में काफी बेहतर होगा और खूंटी की लड़कियां शानदार प्रदर्शन करेंगी.

खूंटी के ही रॉबर्ट होरो 2016 में साउथ एशियन गेम्स में गोल्ड जीत चुके हैं. लिहाजा उनसे भी उम्मीदें बढ़ी हुई हैं. उन्होंने बताया कि झारखंड की टीम देहरादून में इस बार हल्ला बोल प्रदर्शन कर लौटेगी.

देहरादून में 4 और 5 अक्टूबर को सीनियर नेशनल कराटे चैंपियनशिप में झारखंड की टीम में शामिल ये खिलाड़ी अपने हुनर से सभी को चौंकाने की पूरी कोशिश करेंगे. योग और साधना के माध्यम से कराटे की दुनिया में अपना नाम बुलंद करने की इच्छा रखने वाले इन कराटेबाजों का एक ही मंत्र है ‘अभी नहीं तो कभी नहीं’.

Tags: Jharkhand news, Khunti district, Sports

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें