अर्जुन मुंडा: जेएमएम से बीजेपी में आए और 35 साल की उम्र में बन गये सीएम

5 जून 1968 को जमशेदपुर के घोड़ाबांधा में जन्मे अर्जुन मुंडा झारखंड के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं.

News18 Jharkhand
Updated: May 17, 2019, 3:34 PM IST
अर्जुन मुंडा: जेएमएम से बीजेपी में आए और 35 साल की उम्र में बन गये सीएम
पूर्व सीएम अर्जुन मुंडा
News18 Jharkhand
Updated: May 17, 2019, 3:34 PM IST
पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के सामने बीजेपी के दिग्गज करिया मुंडा की विरासत को बचाने की बड़ी चुनौती है. खूंटी लोकसभा सीट से करिया मुंडा आठ बार सांसद रहे. लेकिन इस बार बीजेपी उनके बदले अर्जुन मुंडा को यहां से मैदान में उतारा. अर्जुन मुंडा का मुकाबला कांग्रेस के कालीचरण मुंडा से रहा.

तीन बार रहे हैं सीएम 

5 जून 1968 को जमशेदपुर के घोड़ाबांधा में जन्मे अर्जुन मुंडा झारखंड के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं. मध्यम वर्गीय परिवार से आने वाले मुंडा बिहार और झारखंड विधानसभा में खरसांवा का प्रतिनिधित्व किये. 2009 में जमशेदपुर लोकसभा क्षेत्र से सांसद भी रहे. बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव भी बनाये गये.

जेएमएम से सियासी सफर की शुरुआत

अर्जुन मुंडा का राजनीतिक जीवन 1980 से शुरू हुआ. उस वक्त अलग झारखंड आंदोलन का दौर था. अर्जुन मुंडा ने राजनीतिक पारी की शुरूआत झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) से की. झारखंड आंदोलन में सक्रिय रहते हुए उन्होंने जनजातीय समुदायों और समाज के पिछड़े तबकों के उत्थान की कोशिश की. 1995 में वह जेएमएम उम्मीदवार के तौर पर खरसावां से चुनाव जीतकर बिहार विधानसभा पहुंचे. इसके बाद उन्होंने बीजेपी का रूख किया. 2000 और 2005 में वह बीजेपी के टिकट पर खरसावां से विधायक बने.

2003 में पहली बार सीएम बने

वर्ष 2000 में अलग झारखंड राज्य बनने के बाद अर्जुन मुंडा, बाबूलाल मरांडी सरकार में समाज कल्याण मंत्री बने. वर्ष 2003 में विरोध के कारण बाबूलाल मरांडी को सीएम पद से हटना पड़ा. यही वो वक्त था, जब मुंडा एक मजबूत नेता के रूप में उभरे. 18 मार्च 2003 को अर्जुन मुंडा झारखंड के दूसरे मुख्यमंत्री बने. इसके बाद 12 मार्च 2005 को उन्होंने दोबारा सीएम पद की शपथ ली. लेकिन निर्दलीयों का समर्थन नहीं जुटा पाने के कारण उन्हें 14 मार्च 2006 को त्यागपत्र देना पड़ा. इसके बाद मुंडा झारखंड विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे. 11 सितम्बर 2010 को वह तीसरी बार झारखंड के मुख्यमंत्री बने.
Loading...

पांच भाई- बहनों में सबसे छोटे

स्वर्गीय गणेश मुंडा और साइरा मुंडा के पांच बच्चों में से सबसे छोटे अर्जुन मुंडा हैं. मुंडा ने स्थानीय स्कूल से पढ़ाई करने के बाद इंदिरा गांधी मुक्त विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र में डिप्लोमा किया. अर्जुन मुंडा ने मीरा मुंडा से शादी की. इनके तीन बेटे हैं.

ये भी पढ़ें- लक्ष्मण गिलुवा: 25 साल के संघर्ष में जिला परिषद सदस्य से बने प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष

केन्द्रीय मंत्री जयंत सिन्हा: फंड मैनेजर से सियासी सिकंदर, ऐसा रहा है सफर

निशिकांत दुबे: कॉरपोरेट जगत से सियासत में आए और पहले चुनाव में ही पहुंचे संसद

केन्द्रीय मंत्री सुदर्शन भगत: पांचजन्य पत्रिका बांटते- बांटते किया सियासत का रूख

कांटा इंचार्ज से मंत्री, ऐसा रहा है आजसू उम्मीदवार चंद्रप्रकाश चौधरी का सियासी सफर

विद्युतवरण महतो: झारखंड आंदोलन के लिए छोड़ दी पढ़ाई, 10 साल संघर्ष के बाद मिली पहली चुनावी जीत

संतालियों के लिए संघर्ष से सीएम बनने तक, शिबू सोरेन ऐसे कहलाए दिशोम गुरु

 

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार