Home /News /jharkhand /

भ्रष्टाचार की कहानी: झारखंड में 'भूत' ने कराई जमीन की रजिस्‍ट्री, सरकारी बाबू ने दस्‍तावेज पर लगाई मुहर

भ्रष्टाचार की कहानी: झारखंड में 'भूत' ने कराई जमीन की रजिस्‍ट्री, सरकारी बाबू ने दस्‍तावेज पर लगाई मुहर

Corruption News: कोडरमा निबंधन कार्यालय में मृत व्‍यक्ति के नाम से जमीन रजिस्‍ट्री कराने का मामला सामने आया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Corruption News: कोडरमा निबंधन कार्यालय में मृत व्‍यक्ति के नाम से जमीन रजिस्‍ट्री कराने का मामला सामने आया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Jharkhand Corruption News: झारखंड के कोडरमा जिले (Koderma District के रजिस्‍ट्री ऑफिस में एक ऐसे शख्‍स ने जमीन की रजिस्‍ट्री कराई है, जिसका मृत्‍यु प्रमाणपत्र (Death Certificate) साल 2017 में ही जारी किया चुका है. जमीन की रजिस्‍ट्री साल 2018 में कराई गई. रजिस्‍ट्री ऑफिस के कर्मचारियों का कहना है कि संबंधित शख्‍स का आधार वेरिफिकेशन भी किया गया था.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट – रितेश लोहानी

    कोडरमा. अपने देश में भ्रष्‍टाचार के ऐसे अनेक मामले हैं, जो आमलोगों को चौंकाते हैं. साथ ही यह भी बताते हैं कि भ्रष्‍टाचारी किस तरह से जनता को चूना लगाने का काम करते हैं. भ्रष्‍टाचार की एक ऐसी ही दास्‍तान झारखंड के कोडरमा जिले में सामने आया है. यहां ‘भूत’ ने जमीन की रजिस्‍ट्री किसी दूसरे के नाम पर कर दी. जी हां! आपने बिल्‍कुल सही पढ़ा. कोडरमा के निबंधन कार्यालय या रजिस्‍ट्री ऑफिस में एक ‘भूत’ द्वारा जमीन की रजिस्‍ट्री कराने का अनोखा मामला सामने आया है. सरकारी बाबुओं के चलते ऐसा संभव हुआ है, क्‍योंकि उन्‍होंने ही उस फाइल पर अपनी मुहर लगाई है.

    दरअसल, जिला निबंधन कार्यालय वो जगह है जहां जमीन और विवाह का निबंधन यानी रजिस्‍ट्रेशन कराया जाता है. किसी भी निबंधन के लिए दोनों पक्षों के व्यक्तियों की उपस्थिति अनिवार्य होती है, लेकिन कोडरमा जिला के निबंधन कार्यालय में एक अजीबोगरीब कारनामा सामने आया है. यहां एक मृत व्यक्ति ने अपने मृत्यु के 1 वर्ष बाद अपनी जमीन की रजिस्‍ट्री किसी दूसरे के नाम कर दी. निबंधन कार्यालय ने भी इस पर अपनी मुहर लगा रखी है.

    सड़क किनारे झाड़ी में मिला महिला का कटा हुआ सिर, धड़ की तलाश में जुटी पुलिस 

    मौत के 1 साल बाद कराई जमीन की रजिस्‍ट्री!

    मिली जानकारी के मुताबिक कोडरमा के लखीबागी क्षेत्र निवासी वैद्यनाथ सिंह की मृत्यु साल 2017 में हो चुकी है. कोडरमा निबंधन कार्यालय की मुहर लगे दस्‍तावेज के अनुसार मृत्‍यु के पश्‍चात साल 2018 में वैद्यनाथ सिंह ने किसी दूसरे के नाम पर 2 डिसमिल जमीन की रजिस्ट्री करवा दी. मामला संज्ञान में आने के बाद निबंधन कार्यालय में न्यूज़ 18 ने पड़ताल शुरू की. निबंधन कार्यालय में पदाधिकारी के उपस्थित न होने के कारण किसी अन्य कर्मी ने कैमरे के सामने तो कुछ नहीं कहा, लेकिन अनौपचारिक तौर पर बात करते हुए बताया कि जिस व्यक्ति ने अपनी जमीन की रजिस्ट्री कराई है, उस व्यक्ति का यूआईडी यानी आधार का ऑनलाइन वेरिफिकेशन भी हुआ है. इससे यह साफ होता है कि वह व्यक्ति निबंधन कार्यालय आया था.

    वर्ष 2017 में जारी हुआ था मृत्‍यु प्रमाणपत्र

    अब यह जांच का विषय है कि जब संबंधित व्यक्ति का मृत्यु प्रमाणपत्र साल 2017 में निर्गत है तो उसने वर्ष 2018 में जमीन की रजिस्‍ट्री कैसे कराई? इस घालमेल में कौन-कौन शामिल हैं, इसका पता तो जांच-पड़ताल के बाद ही चलेगा, लेकिन भ्रष्‍टाचार की इस अजब कहानी ने सबको आश्‍चर्यचकित कर दिया है.

    Tags: Ajab Gajab news, Jharkhand news, OMG News

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर