होम /न्यूज /झारखंड /नाबालिग सहेली की होने जा रही थी शादी, 13 साल की लड़की ने बाल विवाह के चंगुल से ऐसे बचाया

नाबालिग सहेली की होने जा रही थी शादी, 13 साल की लड़की ने बाल विवाह के चंगुल से ऐसे बचाया

झारखंड में एक लड़की की सूझबूछ से बाल विवाह होने से बच गया. (सांकेतिक तस्वीर)

झारखंड में एक लड़की की सूझबूछ से बाल विवाह होने से बच गया. (सांकेतिक तस्वीर)

Jharkhand News: यह घटना कोडरमा थाना क्षेत्र के बरसोतियावर गांव की है. शुक्रवार को नाबालिग बच्ची की दोस्त ने चाइल्ड हेल् ...अधिक पढ़ें

रांची: 13 साल की लड़की की बहादुरी ने एक अन्य लड़की की जिंदगी बर्बाद होने से बचा लिया. झारखंड के कोडरमा जिले में 13 वर्षीय लड़की ने अपनी सूझबूझ का परिचय देते हुए स्थानीय अधिकारियों से संपर्क कर नाबालिग सहेली को बाल विवाह के चंगुल में फंसने से बचा लिया. दरअसल, लड़की ने स्थानीय प्रशासन को अपनी सहेली के बाल विवाह की सूचना दी थी और कहा था कि वह अभी पढ़ना चाहती है, शादी नहीं करना चाहती. इसके बाद स्थानीय प्रशासन हरकत में आया और उसने बाल विवाह के चंगुल में फंसने से उस लड़की को बचाया और अपनी कस्टडी में रख लिया.

इस घटना की जानकारी होने के बाद झारखंड हाईकोर्ट ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया और जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (डीएलएसए) को आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया. हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद रेस्क्यू की गई उस लड़की का बयान दर्ज किया गया और उसे कोडरमा के कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में भर्ती कराया गया. यह घटना शुक्रवार की है.

न्यू इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित खबर के मुताबिक, यह घटना कोडरमा थाना क्षेत्र के बरसोतियावर गांव की है. शुक्रवार को नाबालिग बच्ची की दोस्त ने चाइल्ड हेल्पलाइन 1098 को फोन किया था और इस घटना की जानकारी दी. तब जाकर इस मामले में पुलिस की एंट्री हुई. पुलिस ने बच्ची को रेस्क्यू कर उसे चाइल्ड वेलफेयर कमेटी को सौंप दी और उसके बाद उसे रविवार को डीएलएसए, चाइल्डलाइन और स्थानीय प्रशासन की मदद से कस्तुरबा गांधी आवासीय विद्यालय में भर्ती कराया.

रिपोर्ट में दावा किया गया कि लड़की ने 1098 को फोन कर अपनी सहेली की शादी की जानकारी दी थी. जिस लड़की का बाल विवाह होने वाला था, उसकी उम्र भी 13 साल ही है. वह पढ़ना चाहती थी, मगर उसकी जबरन शादी कराई जा रही थी. लड़की ने अपनी सहेली के घर का पता पुलिस को दिया था और उसे बचाने की गुहार लगाई थी.

इसके बाद प्रशासन ने एक्शन लेते हुए बच्ची को रेस्क्यू किया. इस घटना का हाईकोर्ट ने भी संज्ञान लिया और उसके बाद बच्ची को कस्तूरबा बालिका विद्यालय में भर्ती कराया गया. बताया जा रहा है कि लड़की के माता-पिता ने उसकी शादी गिरिडीह के 22 वर्षीय युवक से तय कर दी थी. पीड़ित बच्ची कक्षा सातवीं की स्टूडेंट है और उसका एक बड़ा और एक छोटा भाई है. उसकी 12 साल की एक छोटी बहन भी है.

Tags: Child marriage, Crime News, Jharkhand New

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें