Lockdown में चुपचाप कर रहे थे शादी, पुलिस पहुंची तो मच गई भगदड़, वर-वधू समेत 50 पर केस दर्ज
Koderma News in Hindi

Lockdown में चुपचाप कर रहे थे शादी, पुलिस पहुंची तो मच गई भगदड़, वर-वधू समेत 50 पर केस दर्ज
कोडरमा में प्रशासन की अनुमति के बिना शादी समारोह का आयोजन किया गया

पुलिस (Police) ने लड़का और लड़की पक्ष के दस लोगों के खिलाफ नामजद और 40 अज्ञात पर प्राथमिकी (FIR) दर्ज की है.

  • Share this:
कोडरमा. लॉकडाउन (Lockdown) में शादी (Marriage) समारोह का आयोजन करना महंगा पड़ा गया. कोडरमा प्रशासन ने दूल्हा-दुल्हन समेत 50 लोगों पर केस (Case) दर्ज किया है. जानकारी के मुताबिक तिलैया थानाक्षेत्र के इंदरवा में शादी समारोह का आयोजन हुआ था. सूर्य मंदिर में इंदरवा के सूरज यादव पिता उपेंद्र यादव और डोमचांच के मधुबन की डॉली कुमारी पिता सुरेश यादव की शादी हो रही थी, तभी पुलिस पहुंच गयी. पुलिस (Police) की गाड़ी को देखते ही बाराती भागने लगे. पुलिस ने इस संबंध में दूल्हा-दुल्हन समेत 50 लोगों पर केस दर्ज किया है.

प्रशासन से नहीं मिला था परमिशन







पुलिस ने दोनों पक्षों से वैध कागजात की मांग की, तो वर पक्ष की ओर से बीडीओ को दिया गया आवेदन ही दिखाया गया. लेकिन इस आवेदन पर बीडीओ से शादी समारोह की अनुमति नहीं मिली थी. जिसके बाद एएसआई विकेश कुमार के बयान पर तिलैया थाने में केस दर्ज किया गया. इस सिलसिले में पुलिस ने लड़का और लड़की पक्ष के दस लोगों के खिलाफ नामजद और 40 अज्ञात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की है. दूल्हा सूरज यादव पिता उपेंद्र यादव निवासी, दुल्हन डॉली कुमारी पिता सुरेश यादव के अलावा शादी कराने वाले पंडित बाबूलाल पांडेय को भी आरोपी बनाया गया है.

लॉकडाउन की वजह दो बार टल चुकी थी शादी

दूल्हे की मां सुनीता देवी ने बताया कि शादी की तारीख लॉकडाउन की वजह से दो बार टल चुकी थी. दिसंबर में तिलक हुआ था. पहले 26 अप्रैल को शादी निर्धारित थी, पर इसे बदलकर तीन मई की गयी. लेकिन फिर लॉकडाउन बढ़ने के कारण हमने नियमानुसार शादी कराने की सोची. शादी कार्यक्रम में दोनों परिवार के मात्र 15 लोग ही थे. चूंकि गांव के मंदिर में शादी हो रही थी, इसलिए वहां कुछ अतिरिक्त लोग भी पहुंच गए.

50 से ज्यादा लोग जमा थे 

बताया गया कि दुल्हन के पिता ने डोमचांच बीडीओ को दो मई को आवेदन देकर पांच तारीख को ध्वजाधारी धाम में शादी रचाने को लेकर अनुमति मांगी थी. लेकिन इसे अस्वीकार कर दिया गया था. नियम के मुताबिक लॉकडाउन में बगैर अनुमति के किसी भी समारोह का आयोजन गलत है. शादी समारोह में 20 से ज्यादा लोगों के जुटने की अनुमति नहीं है. बावजूद इसके, इंदरवा सूर्य मंदिर में 50 से ज्यादा लोग जमा थे और वर-वधू पक्ष के अलावा कुछ बाराती भी शादी का गवाह बनने पहुंचे थे.

ये भी पढ़ें- बॉयफ्रेंड ने शादी से किया मना तो नाबालिग गर्लफ्रेंड ने कर दी हत्या और फिर...

 










 






 












 











अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज