लाइव टीवी

सीआरपीएफ ने जेनरेटर से पहुंचाई नक्सल प्रभावित गांव में बिजली

News18 Jharkhand
Updated: October 2, 2018, 3:05 PM IST
सीआरपीएफ ने जेनरेटर से पहुंचाई नक्सल प्रभावित गांव में बिजली
अंधेरे से उजाले की ओर

लातेहार के बूढ़ा पहाड़ पर बसा करमडीह गांव में नक्सलियों के डर से आज तक बिजली नहीं पहुंच पाई है. लेकिन झारखण्ड सरकार ने पहले गांव में सीआरपीएफ की 112वीं बटालियन का कैंप स्थापित कराया और अब जनरेटर के माध्यम से पूरे गांव में बिजली भी पहुंचा दिया.

  • Share this:
बूढ़ा पहाड़ से सटे करमडीह गांव को कभी नक्सलियों की राजधानी कहा जाता था, पूरे राज्य और देश के बड़े नक्सली यहां आकर रणनीति बनाया करते थे. विकास से कोसों दूर इस गांव में आज भी बिजली नहीं आती है. लेकिन सीआरपीएफ की 112 वीं बटालियन के जवानो ने इस गांव में जनरेटर के माध्यम से बिजली पहुंचाकर लोगों का दिल जीत लिया है. ग्रामीण सरकार और सीआरपीएफ को प्रशंसा करते नहीं थक रहे है.

लातेहार के बूढ़ा पहाड़ पर बसा करमडीह गांव में नक्सलियों के डर से आज तक बिजली नहीं पहुंच पाई है. लेकिन झारखण्ड सरकार ने पहले गांव में सीआरपीएफ की 112वीं बटालियन का कैंप स्थापित कराया और अब जनरेटर के माध्यम से पूरे गांव में बिजली भी पहुंचा दिया.

गांव में बिजली आने से गांव वाले बहुत खुश नजर आ रहे हैं. गांव वालों का कहना है कि उन्हें अंधेरे में जीने की आदत सी हो गई थी. लेकिन जब से सीआरपीएफ ने गांव में कैंप बनाया गया है तब से उन्हें नक्सलियों के साथ ही अंधेरे से भी मुक्ति मिल गई है. सीआरपीएफ और सरकार ने हमें ढ़िबरी युग से बाहर निकाल कर आधुनिक युग में ला दिया है.

बता दें कि सरकार लातेहार जिले से नक्सलियों का प्रभाव ख़त्म करने का प्रयास कर रही है. इसके लिए सरकार ग्रामीणों तक सभी आधारभूत सुविधाओं को पहुंचाने का काम कर रही है.

यह भी पढ़ें- बैंकों से करोड़ों की लूट करने वाला डकैत धनबाद से गिरफ्तार

गया अधिवेशन के दौरान झरिया के कोयला उद्योगपति ने की थी बापू की आर्थिक मदद

( लातेहार से विकास की रिपोर्ट ) 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लातेहार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 2, 2018, 3:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर