लाइव टीवी

सूखे के कारण परेशान हैं धान व मकई की खेती करने वाले किसान
Latehar News in Hindi

Vikas Kumar | News18 Jharkhand
Updated: October 8, 2018, 7:00 PM IST
सूखे के कारण परेशान हैं धान व मकई की खेती करने वाले किसान
वर्षा ना होने से पीली पड़ी धान की फसल

लातेहार जिला की आबादी 7 लाख 20 हज़ार है और यहां के 75 प्रतिशत लोगों का मुख्य पेशा कृषि पर ही आधारित है. दुखद स्थिति यह है कि पिछले कई वर्षों से इस क्षेत्र में सूखे की मार झेल रहा है. उम्मीद के मुताबिक अंतिम समय में वर्षा नहीं होने के कारण किसानों की फसल पूर्ण रूप से पीली हो गई है.

  • Share this:
जिला लातेहार की आबादी 7 लाख 20 हज़ार है और यहां के 75 प्रतिशत लोगों का मुख्य पेशा कृषि पर ही आधारित है. दुखद स्थिति यह है कि पिछले कई वर्षों से इस क्षेत्र में सूखे की मार झेल रहा है. इस बार शुरुआती दौर में किसानों के लिए अच्छी वर्षा हुई जिस कारण किसानों ने अपनी गाड़ी कमाई को निकाल कर अपने खेतों में फसल लगाया था तो कुछ किसानों ने कर्ज लेकर फसल बोई. उम्मीद के मुताबिक अंतिम समय में वर्षा नहीं होने के कारण किसानों की फसल पूर्ण रूप से पीली हो गई है. अब तक किसान के लगाई धान की फसल में बाली आ जाती थी लेकिन वर्षा नही होने के कारण किसान उम्मीद छोड़ चुके हैं.

लातेहार के किसान के मुताबिक कर्ज लेकर उन्होंने अपने खेत में फसल रोपी थी लेकिन वर्षा नहीं होने के कारण अब हम सब काफी परेशान हैं. साथ ही कर्ज लेने के बाद अब कर्ज कैसे चुकाएंगे यह एक बड़ा सवाल है. जिले भर में किसान त्राहिमाम कर रहा है. किसानों का यह मानना है की यदि हमरी लगाई फसल से उपज नहीं हुई तो हमारे सामने आत्महत्या के अलावा कोई रास्ता नहीं बचेगा. किसानो के द्वारा लगभग 7000 एकड़ में धान और मकई की खेती की है. किसानों को अब सरकार से ही उम्मीद है कि वह ही उनकी समस्या का समाधान कर सकती है.

यह भी पढ़ें - पहले करता था प्रताड़ित, अब फोन पर कहा- तलाक, तलाक, तलाक

यह भी पढ़ें - समझाने के बावजूद देर तक सोया करता था बेटा, तंग आकर रिटायर्ड फौजी ने कर दी हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लातेहार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 8, 2018, 7:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर