लातेहार: दोस्ती के विश्वास के बदले दिया बेटे की बलि का दर्द

आरोपी सुनील उरांव से बीरेंद्र उरांव की गहरी दोस्ती थी, उसी ने ही जिंदगी भर का दर्द दे दिया. गांववाले कभी इनकी दोस्ती की दुहाई देते थे, लेकिन अब उसको कोस रहे हैं.

News18 Jharkhand
Updated: July 12, 2019, 4:56 PM IST
लातेहार: दोस्ती के विश्वास के बदले दिया बेटे की बलि का दर्द
जिस आरोपी सुनील उरांव से बीरेन्द्र उरांव की गहरी दोस्ती थी, उसी ने ही बीरेन्द्र को जिंदगी भर का दर्द दे दिया. गांववाले कभी इनकी दोस्ती की दुहाई देते थे, लेकिन अब उसको कोस रहे हैं. (फोटो में पीड़ित बीरेन्द्र उरांव)
News18 Jharkhand
Updated: July 12, 2019, 4:56 PM IST
लातेहार के सेमरहट गांव की घटना ने दोस्ती के रिश्ते को कलंकित कर दिया है. आरोपी सुनील उरांव की बीरेंद्र उरांव से गहरी दोस्ती थी. लेकिन सुनील ने ही बीरेंद्र उरांव को जिंदगी भर का दर्द दे दिया. गांववाले कभी इनकी दोस्ती की दुहाई देते थे, लेकिन अब सुनील को कोस रहे हैं.

मोबाइल लाने आरोपी के घर गया था निर्मल


आरोपी सुनील उरांव गांव में अपने घर में दुकान चलाता था. जबकि बीरेंद्र उरांव का घर उसके घर से सौ फीट की दूरी पर है. बीरेंद्र उरांव के बच्चे सुनील के घर आते-जाते रहते थे. बीरेंद्र के मुताबिक 9 जुलाई की रात को सुनील के ससुराल से उसके मोबाइल पर फोन आया. उसने बेटे निर्मल को मोबाइल देने सुनील के घर भेज दिया. निर्मल मोबाइल देकर घर वापस आ गया. दूसरे दिन (बुधवार) सुबह बीरेंद्र उरांव ने बेटे को मोबाइल लाने के लिए सुनील के घर भेजा. इसके बाद निर्मल लापता हो गया.

आरोपी सुनील उरांव


बीरेंद्र से ली थी बाइक
कुछ देर बाद जब बीरेंद्र उरांव सुनील के घर पहुंचा और पूछा कि मेरा मोबाइल निर्मल को दे दिया. तो उसने हां कह दिया. इसके बाद बीरेंद्र उरांव वहां से चला गया. जब काफी देर हो गई तो बीरेंद्र उरांव बेटे निर्मल को ढूंढने लगा. उस समय सुनील भी अपने घर के पास खड़ा था. उसने बीरेंद्र उरांव से ही उसकी बाइक मांगी और कहीं चला गया. उस समय तक बीरेंद्र उरांव को अहसास नहीं था कि उसके बेटे के साथ सुनील ने हैवानियत को अंजाम दिया है.

नरबलि का मामला!
Loading...

आरोपी सुनील उरांव के घर के पीछे बालू के ढेर से निर्मल की सिरकटी लाश मिली थी. पुलिस की जांच में आरोपी के घर के अंदर खून के छीटें मिले. लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया. हालांकि सिर बरामद नहीं हुआ. बच्चे के पिता ने कहा कि मेरे बेटे को बलि देकर गाड़ दिया गया. घटना को लेकर गांववालों में आक्रोश देखा गया. इसको देखते हुए गांव को पुलिस छावनी में तब्दील कर दी गई. तीन थानों की पुलिस को गांव में तैनात किया गया.

(इनपुट- विकास कुमार) 

ये भी पढ़ें- लातेहार: आरोपी की निशानदेही पर बच्चे का कटा सिर बरामद, बच्ची के सिर की तलाश जारी

डीसी- एसपी ने नरबलि से किया इनकार, आरोपी गिरफ्तार, जांच के लिए SIT का गठन

 

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...