कभी नक्सलियों की राजधानी कहा जाने वाला यह क्षेत्र बना झारखंड के विकास का चेहरा

सालों तक नक्सलियों से प्रभावित लातेहार का सरयू गांव अब विकास के नए पायदान छू रहा है. सरकार और पुलिस के सहयोग से इस क्षेत्र में भरपूर विकास हुआ है, लोगों को शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार जैसी मूलभूत सुविधाएं दी जा रही है. रघुवर दास सरकार के प्रयासों से अब इस क्षेत्र को झारखंड विकास के चेहरे के रूप में देखा जा रहा है.

Vikas Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: February 15, 2018, 3:13 PM IST
कभी नक्सलियों की राजधानी कहा जाने वाला यह क्षेत्र बना झारखंड के विकास का चेहरा
सरयू गांव में पुलिस ने टीओपी का उद्घाटन किया
Vikas Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: February 15, 2018, 3:13 PM IST
90 के दशक से नक्सलियों की राजधानी कहे जाने वाले लातेहार के गारू प्रखंड की स्थितियों में बदलाव हो रहा है. कभी गारू के सरयू गांव में नक्सलियों की समानांतर सरकार चलती थी, लेकिन पिछले तीन सालों में इस गांव के हालात में बदलाव आया है. इन तीन सालों में स्थानीय प्रशासन ने पुलिस की मदद से न केवल नक्सलियों की सरकार को खत्म किया है, बल्कि सरकार ने जो वादे ग्रामीणों से किए थे वो भी पूरे किए हैं. स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि यह सब मुख्यमंत्री रघुवर दास की सार्थक पहल और पलामू डीआईजी बिपुल शुक्ला की मेहनत से हुआ है. हाल ही में डीआईजी बिपुल शुक्ला ने यहा टीओपी (टेंपरोरी आउट पोस्ट) का उद्घाटन किया है जिससे यहां के लोग खुश है.

सरयू गांव की बदलती तस्वीर से झारखंड के विकास का अंदाजा लगया जा सकता है. सरकार की पहल और सकारात्मक रुख से आज यह क्षेत्र विकास के नए सोपान पार कर रहा है. कुछ सालों पहले यहां के लोगों को छोटी-बड़ी परेशानी या कार्यों के लिए 25 किलोमीटर दूर गारू प्रखंड जाना पड़ता था, लेकिन अब सरयू में पुलिस टीओपी के खुलने से हर राह आसान नज़र आने लगी है.

करीब 3 साल पहले नक्सल प्रभावित इस क्षेत्र में दिन में नक्सलियों की चहलकदमी होती रहती थी. पलामू डीआईजी बिपुल शुक्ला ने बतया कि अब इस क्षेत्र में विकास की राहें खुल गई हैं, सड़क, पानी, शिक्षा और रोजगार जैसी आधारभूत सुविधाओं को देखते हुए सरकार ने कई विकास कार्य करवाए हैं. सिंचाई के लिए बांध बनाए हैं जिससे लोगों को काफी फायदा मिला है.

भले ही यह क्षेत्र दशकों तक नक्सलियों के प्रभाव में रहा हो लेकिन रघुवर दास सरकार और पुलिस के प्रयासों के बाद आज यह क्षेत्र विकास कर रहा है. अब यह क्षेत्र गारू प्रखंड का विकसित क्षेत्र के रूप में जाना जाता है.

यह भी पढ़े- आजसू नेता व पूर्व अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ी अजय सिंह ने दो साथियों को मारी गोली, एक की मौत

यह भी पढ़े- लातेहार में मुठभेड़ में दो लाख का इनामी नक्‍सली बीरबल ढेर

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर