लाइव टीवी

धर्म परिवर्तन किया तो पंचायत ने सुनाया हुक्का-पानी बंद करने का फरमान

News18 Jharkhand
Updated: May 14, 2019, 9:31 AM IST
धर्म परिवर्तन किया तो पंचायत ने सुनाया हुक्का-पानी बंद करने का फरमान
सांकेतिक तस्वीर

लातेहार में धर्म परिवर्तन करने वाले पांच परिवारों को ग्राम पंचायत ने हुक्का पानी बंद कर दिया था. इन परिवारों को दुकानदार राशन का सामान भी नहीं दे रहे थे. इतना ही नहीं इन परिवारों को सरकारी चालाकलों से पानी लेने की भी मनाही थी.

  • Share this:
झारखंड के लातेहार में ग्राम पंचायत के आदेश पर 10 अप्रैल को पांच परिवारों का हुक्का-पानी बंद कर दिया गया है. 6 साल पहले इन परिवारों ने धर्म परिवर्तन किया था. मामला चंदवा प्रखंड के तेतर टोला का है. मामला प्रकाश में आने के बाद डीसी राजीव कुमार के निर्देश पर जांच कमेटी सोमवार (13 मई) को तेतर टोला पहुंची. जांच अधिकारियों ने दोनों पक्षों के साथ बैठक की. बीडीओ ने ग्राम प्रधान रामकेवल उरांव को फटकार लगाते हुए कहा कि वे संवैधानिक दायरे में रहते हुए ही कोई भी फैसला दें.

जानिए क्या था पूरा मामला

लातेहार में धर्म परिवर्तन करने वाले पांच परिवारों को ग्राम पंचायत ने हुक्का पानी बंद कर दिया था. इन परिवारों को दुकानदार राशन का सामान भी नहीं दे रहे थे. इतना ही नहीं इन परिवारों को सरकारी चालाकलों से पानी लेने की भी मनाही थी. बता दें कि पांच परिवारों के हुक्का-पानी बंद करने के लिए 10 अप्रैल को ग्राम सभा की बैठक बुलाई गई थी. जिसमें ग्राम प्रधान रामकेवल उरांव की अध्यक्षता में यह निर्णय लिया गया था कि पांचों परिवार मोतीलाल उरांव, लुका उरांव, बनारसी उरांव, राजेश लोहरा और माड़वारी उरांव का हुक्का-पानी बंद कर दिया जाए. उनसे कहा गया कि 6 साल पहले उनलोगों ने धर्म परिवर्तन कर ईसाई धर्म को स्वीकार कर लिया था और अब वे ग्रामसभा की ओर से दिए जाने वाले दंड को भुगतने का तैयार हो जाएं.

इतना ही नहीं ग्रामसभा की बैठक में एक और तुगलकी फरमान सुनाया गया था. जिसमें पांचों परिवारों को अपनी जमीन पर खेती नहीं करने का आदेश दिया गया था और उनकी जमीन को गोतिया भाईयों में बांट देने की बात कही गई थी. इन परिवारों को गांव के किसी भी समारोह में शामिल होने के लिए निमंत्रण नहीं दिया जाएगा और कोई भी ग्रामीण अगर इनके समारोह (शादी या मृत्यू) में शामिल होता है तो उसे 1000 रुपए का जुर्माना देना होगा. इतना ही नहीं इन परिवारों का राशन कार्ड और महिला समूहों से सदस्यता रद्द की जाएगी.

एसडीपीओ वीरेंद्र राम ने हिदायत दी कि धर्म के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा, सबको राशन मिलेगा. पीड़ित परिवार अपना धर्म मानें और धर्म के आधार पर हुक्का-पानी बंद नहीं किया जाएगा. अगर पीड़ित परिवार को किसी भी तरह से परेशान किया गया तो आरोपियों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

(लातेहार से विकास कुमार की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें- भाजपा हटाओ के मकसद में कभी कामयाब नहीं होगा महागठबंधन- राजनाथ सिंह
Loading...

ये भी पढ़ें- पीएम के रोड शो को लेकर प्रदेश बीजेपी में उत्साह, सुबोधकांत बोले- कोई फर्क नहीं पड़ने वाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लातेहार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 14, 2019, 9:27 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...