Home /News /jharkhand /

lohardaga violence alleging action against the innocent women demonstrated at the collectorate nodaa

लोहरदगा हिंसा : निर्दोषों पर कार्रवाई का आरोप लगाते हुए महिलाओं ने समाहरणालय का किया घेराव

लोहरदगा सेक्रेटेरिएट का घेराव करतीं महिलाएं.

लोहरदगा सेक्रेटेरिएट का घेराव करतीं महिलाएं.

Action against Hindus: कहना था कि 10 अप्रैल को कुजरा-हिरही गांव में आयोजित रामनवमी शोभायात्रा और मेला में काफी उत्साह के साथ महिला-पुरुष और बच्चे भी शामिल हुए थे. मगर सुनियोजित तरीके से एक खास समुदाय के लोगों ने प्लान करके शोभायात्रा पर हमला किया, आगजनी की और मारपीट की. लेकिन पुलिस हिंदू समाज के लोगों को परेशान कर रही है.

अधिक पढ़ें ...

आकाश साहु

लोहरदगा. झारखंड के लोहरदगा में हिंसा प्रभावित गांव की महिलाओं ने लोहरदगा समाहरणालय का घेराव किया. इन महिलाओं का आरोप है कि 10 अप्रैल को रामनवमी शोभायात्रा पर हुए पथराव, आगजनी और हिंसा के मामले में पुलिस निर्दोष लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है और उनकी गिरफ्तारी की गई है.

सैकड़ों की संख्या में महिलाएं उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक और अन्य आला अधिकारियों का घेराव करने पहुंची थीं. डीडीसी गरिमा सिंह के दिशा निर्देश पर इन महिलाओं को परिसर में रोका गया. डीडीसी ने महिलाओं से बात की. उन्हें समझाया और वापस भेज दिया. घेराव करने आईं रोहिता देवी और सीमा देवी का कहना था कि 10 अप्रैल को कुजरा-हिरही गांव में आयोजित रामनवमी शोभायात्रा और मेला में काफी उत्साह के साथ महिला-पुरुष और बच्चे भी शामिल हुए थे. मगर सुनियोजित तरीके से एक खास समुदाय के लोगों ने प्लान करके शोभायात्रा पर हमला किया, आगजनी की और मारपीट की. लेकिन पुलिस हिंदू समाज के लोगों को परेशान कर रही है. हमलोग तो मारपीट करने पत्थरबाजी करने नहीं गए थे.

इन महिलाओं ने कहा कि आधी रात को पुलिस आती है, दरवाजा धक्का देती है, तोड़ती है और घर के पुरुष सदस्यों को ढूंढ़ती है, पकड़ कर ले जाती है. अब तक हमारी ओर से गिरफ्तार किए गए लोग या जिन पर एफआईआर हुई है वे सभी लोग बेकसूर है. पुलिस और प्रशासन एकतरफा कार्रवाई कर रही है. आधी रात को पुलिस इस तरह कार्रवाई कर रही है कि सब लोग डर गए हैं. महिलाओं ने गिरफ्तार कर जेल भेजे गए अपने समाज के लोगों को बेकसूर बताते हुए उनकी रिहाई और केस हटाने की मांग की.

सैकड़ों की संख्या में महिलाओं के जिला मुख्यालय पहुंचने के कारण वहां अचानक से अव्यवस्था की स्थिति पैदा हो गई. कई महिलाएं कड़ी धूप में अपने छोटे-छोटे बच्चों को लेकर पहुंची थीं. उनका कहना था कि घर में कोई भी पुरुष सदस्य नहीं है. पुलिस और प्रशासन की कार्रवाई के डर से घर छोड़ने को मजबूर हो गए हैं. इसलिए वह भी खुद को असुरक्षित महसूस करते हुए जिले के अधिकारियों के समक्ष पहुंची हैं.

मौके पर मौजूद लोहरदगा डीडीसी गरिमा सिंह ने कहा कि किसी गांव में अगर कोई घटना होती है, तो प्रशासन द्वारा कार्रवाई किया जाना सही है. मगर यहां इतनी सारी महिलाएं शिकायत लेकर जमा हुई हैं, तो इनकी शिकायत नोट की जा रही है और इस पर कार्रवाई होगी.

Tags: Jharkhand news, Lohardaga news, Ram Navami

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर