लाइव टीवी

झारखंड चुनाव 2019: कांग्रेस-JMM में अविश्वास के चलते महागठबंधन नहीं होगा- सुखदेव भगत

Gautam Lenin | News18 Jharkhand
Updated: November 7, 2019, 10:13 AM IST
झारखंड चुनाव 2019: कांग्रेस-JMM में अविश्वास के चलते महागठबंधन नहीं होगा- सुखदेव भगत
सुखदेव भगत बोले- 'JMM-Congress के महागठबंधन का स्वरूप स्वार्थ पर केंद्रित हो गया है'

बीजेपी नेता सुखदेव भगत ने कहा कि दोनों पार्टियों (जेएमएम-कांग्रेस) में एक-दूसरे के प्रति अविश्वास भरा हुआ है. इससे ये महागठबंधन होने से रहा. इस महागठबंधन का स्वरूप पूरी तरह से स्वार्थ पर केंद्रित हो गया है.

  • Share this:
लोहरदगा. झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 (Jharkhand Assembly Election 2019) की घोषणा होने के बाद राजनीतिक दल (Political Party) और नेता अपने बयानों के जरिए एक-दूसरे पर निशाना साध रहे हैं. अब बीजपी नेता और विधायक सुखदेव भगत (Sukhdeo Bhagat) ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) और कांग्रेस (Congress) पर प्रहार करते हुए कहा कि दोनों पार्टियों में अविश्वास के चलते महागठबंधन नहीं होगा. सुखदेव भगत ने महागठबंधन (Grand Alliance) की स्थिति पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव (Rameshwar Oraon) पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि रामेश्वर उरांव के अध्यक्ष बनने के बाद कई लोगों ने पार्टी का दामन छोड़ दिया है.

'महागठबंधन का स्वरूप स्वार्थ पर केंद्रित हो गया है'

भगत ने कहा कि इस विषय पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को ध्यान देना चाहिए. साथ ही कहा कि एक को विधानसभा चुनाव के दौरान अधिक सीटें चाहिए जबकि दूसरा इसे लेकर समझौता करने को तैयार नहीं है. बीजेपी नेता ने कहा कि दोनों पार्टियों (जेएमएम-कांग्रेस) में एक-दूसरे के प्रति अविश्वास भरा हुआ है. इससे ये महागठबंधन होने से रहा. इस महागठबंधन का स्वरूप पूरी तरह से स्वार्थ पर केंद्रित हो गया है.

'JMM-BJP राज्य का भला नहीं चाहते'

उन्होंने जेएमएम और कांग्रेस दोनों पार्टियों के नेतृत्वकर्ताओं पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि ये राज्य का भला नहीं चाहते हैं. झारखंड का भला बीजेपी ही कर सकती है. सुखदेव भगत ने जेएमएम के अध्यक्ष हेमंत सोरेन और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव पर कई गंभीर आरोप भी लगाए.

कांग्रेस 28-30 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए अड़ी

दरअसल, जेएमएम ने आखिरी कोशिश करते हुए कांग्रेस के सामने गठबंधन का नया फाॅर्मूला रखा है. इसके तहत जेएमएम- 44, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी)- सात, कांग्रेस और वामदलों को 30 सीटें देने का प्रस्ताव है. जेएमएम ने वामदलों को मनाने का जिम्मा कांग्रेस पर छोड़ दिया है. वहीं कांग्रेस राज्य में 28 से 30 सीटों पर चुनाव लड़ने को लेकर अड़ी हुई है, जिससे दोनों दलों की दोस्ती टूट के कगार पर पहुंच गई है. वहीं महागठबंधन बनने में देरी को देखते हुए सीपीआई ने 16 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. इस तरह झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) की तरह सीपीआई ने भी अलग रास्ता अपना लिया है.
Loading...

बता दें कि झारखंड की 81 विधानसभा सीटों के लिए पांच चरणों में मतदान होना है. चुनाव के नतीजे 23 दिसंबर को आएंगे.

ये भी पढ़ें:- झारखंड चुनाव 2019: सीट शेयरिंग विवाद में टूट के कगार पर JMM-कांग्रेस की दोस्ती

बहरागोड़ा सीट पर बदला सियासी समीकरण, बीजेपी के समीर मोहंती जाएंगे जेएमएम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लोहरदगा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 9:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...