Home /News /jharkhand /

बिजली-पानी के अभाव में बेकार पड़े हैं सांसद निधि से तैयार 16 मंडप

बिजली-पानी के अभाव में बेकार पड़े हैं सांसद निधि से तैयार 16 मंडप

ख-रखाव के अभाव में मंडप टूटने लगे है. निर्मित मंडप का संचालन ग्राम कमिटी के द्वारा किया जाना है.

ख-रखाव के अभाव में मंडप टूटने लगे है. निर्मित मंडप का संचालन ग्राम कमिटी के द्वारा किया जाना है.

ख-रखाव के अभाव में मंडप टूटने लगे है. निर्मित मंडप का संचालन ग्राम कमिटी के द्वारा किया जाना है.

गोड्डा सांसद निशीकांत दूबे द्वारा सांसद मद से वित्तीय वर्ष 2012–13 में जिले में 21 विवाह मंडप बनवाने की घोषणा की गई थी.

विभिन्न पंचायतों में 16 विवाह मंडप बन कर भी तैयार हैं, जबकि जमीन के अभाव में पांच का निर्माण अधर में लटका है. जो मंडप बनकर तैयार हैं, उनमें बिजली और पानी की व्यवस्था आज तक नहीं की गई.

लिहाजा तैयार मंडप भी यूं ही पड़े हैं. इसका लाभ लोगों को नहीं मिल पा रहा है. रख-रखाव के अभाव में मंडप टूटने लगे है. निर्मित मंडप का संचालन ग्राम कमिटी के द्वारा किया जाना है.

रजौन कला के परमानंद ठाकुर कहते हैं कि चूंकि निमार्ण अधूरा है, इसलिए देख-रेख के लिए कमिटी का गठन नहीं हो पाया है. इस बाबत पूछे जाने पर सांसद निशीकांत दूबे ने कहा कि सांसद का काम जरुरत के अनुसार फंड रिलीज करना है.

काम की गुणवत्ता देखना जिला प्रशासन का काम है. अगर आज तक विवाह मंडप में बिजली और पानी की व्यवस्था नहीं हो पायी है तो इसके लिए जिला प्रशासन जिम्मेदार है.

Tags: Jharkhand news

अगली ख़बर