अपना शहर चुनें

States

पाकुड़: 1789 पारा शिक्षकों पर लटक रही है कार्रवाई की तलवार, 35 काम पर लौटे

हड़ताल पर पारा शिक्षक
हड़ताल पर पारा शिक्षक

जिला शिक्षा अधीक्षक रजनी कुमारी का कहना है कि सभी 322 विद्यालयों में दूसरे शिक्षकों को प्रतिनियुक्त कर दिया गया है. लेकिन विद्यालयों की चाभी पारा शिक्षकों के पास होने के चलते पढ़ाई बाधित है.

  • Share this:
पाकुड़ में 1789 पारा शिक्षकों पर कभी भी गाज गिर सकती है. जबकि 1824 में से 35 पारा शिक्षक काम पर लौट गये हैं. जिला शिक्षा अधीक्षक रंजनी कुमारी ने कहा कि इस सिलसिले में सरकार को रिपोर्ट भेज दी गई है. पारा शिक्षकों के आंदोलन से 322 स्कूलों में पढ़ाई ठप है.

लोगों का कहना है कि शिक्षकों के नहीं आने से इन स्कूलों में पढ़ाई बंद है. स्कूलों में ताले लटके पड़े हैं. एेसे में उनके बच्चों का भविष्य अधर में लटक गया है. दरअसल पारा शिक्षकों के आंदोलन के चलते जिले के 40 हजार बच्चे पढ़ाई से वंचित हो गये हैं.

हालांकि जिला शिक्षा अधीक्षक रजनी कुमारी का कहना है कि सभी 322 विद्यालयों में दूसरे शिक्षकों को प्रतिनियुक्त कर दिया गया है. लेकिन विद्यालयों की चाभी पारा शिक्षकों के पास होने के चलते पढ़ाई बाधित है. आंदोलनकारी पारा शिक्षक चाभी देना नहीं चाह रहे हैं.



जिला पारा शिक्षक संघ के अध्यक्ष चितरंजन भंडारी ने कहा कि 222 विद्यालयों के सचिव पारा शिक्षक हैं. उन्हीं के पास विद्यालयों के संचालन का जिम्मा है. बाकी सौ विद्यालय के सचिव सरकारी शिक्षक हैं.
प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी संत मरसी टुडू के मुताबिक पारा शिक्षकों की हड़ताल से विद्यालय का संचालन और पढ़ाई बाधित हुई है. विद्यालय संचालन के लिए सरकारी और मदरसा शिक्षकों को प्रतिनियुक्त किया गया है.

(कुन्दन कुमार की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें- भाजपा प्रवक्ता ने पारा शिक्षकों की आतंकवादी और उग्रवादियों से की तुलना

VIDEO: यहां ‘जेल भरो आंदोलन’ के तहत पारा शिक्षकों ने दी गिरफ्तारी

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज