अपना शहर चुनें

States

तेज हवा और बारिश के कारण तबाह हुई 40 प्रतिशत धान की फसल

तीन दिन से हो रही बारिश और तेज हवा से फसल हुई बर्बाद.
तीन दिन से हो रही बारिश और तेज हवा से फसल हुई बर्बाद.

पाकुड़ जिले हो तीन चार दिन से लगातार हो रही तेज हवा और बारिश से धान की फसल को काफी नुकसान पहुंचा है. खेतों में खड़ी 40 प्रतिशत फसल के बर्बाद हो जाने के बाद चिंतित किसान सरकार से मुआवजे की आस लगाए हुए हैं.

  • Share this:
पाकुड़ जिले हो तीन चार दिन से लगातार हो रही तेज हवा और बारिश से धान की फसल को काफी नुकसान पहुंचा है. खेतों में खड़ी 40 प्रतिशत फसल के बर्बाद हो जाने के बाद चिंतित किसान सरकार से मुआवजे की आस लगाए हुए हैं.

तेज हवा और बारिश के कारण धान की फसल जमीन में गिर गई है. धान पानी में भिगने से सड़ने लगा है. फसल बर्बाद होने से के बाद किसानों ने कहा कि यदि सरकार हमारी मदद नहीं करेगी तो आत्यहत्या की नौबत आ जाएगी.

जिले में तीन सौ एकड़ जमीन में खड़ी फसल को नुकसान हुआ है. पाकुड़ में एक लाख दस हजार किसान हैं और 49 हजार हेक्टयर जमीन में धान की खेती होती है. कृषि विभाग फसल बीमा योजना के तहत किसानों को लाभ देने के लिए तत्पर है लेकिन किसान को फसल बीमा योजना पर भरोसा नहीं है.



किसान बीमा योजना पर विश्वास नहीं होने के कारण वे सीधे तौर पर मुआवजा की मांग कर रहे हैं. अधिकांश किसानों ने अपनी फसल का बीमा नहीं करवाया है. हालांकि कृषि विभाग के अधिकारियों ने बताया कि वे नुकसान का आकलन कर रहे हैं और किसानों से उनको हुए नुकसान का आवेदन भी ले रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज