लाइव टीवी

अवैध खदानों में छापेमारी के दौरान भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद

Kundan Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 5, 2018, 4:42 PM IST
अवैध खदानों में छापेमारी के दौरान भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद
अवैध खदानों में पुलिस की छापेमारी

अवैध पत्थर खदान चलाने वालों की सूची भी जिला टास्क फोर्स के पदाधिकारियों को मिली है.

  • Share this:
पाकुड़ में अवैध रूप से पत्थर खदान चलाने और बड़ी मात्रा में विस्फोटक की खेप को खपाने का अवैध कारोबार किया जा रहा है. बता दें कि झारखंड के एक कोने और पश्चिम बंगाल से सटे होने के कारण पाकुड़ जिला माफियाओं के लिए एक सेफ जोन है. यहां रद्दीपुर और पाकुड़िया थाना क्षेत्र में पुलिस के नाक नीचे दर्जनों पत्थर खदान अवैध रूप से चलाए जा रहे हैं.

इस बारे में जब जिला टास्क फोर्स को गुप्त सूचना मिली और फिर जब छापेमारी की गई तब अवैध रूप से चल रहे पत्थर खदानों में विस्फोटकों का जखीरा पकड़ा गया. विस्फोटकों में 60 पीस से अधिक डेटोनेटर, 50 किलो से अधिक अमोनियम नाइट्रेट, भारी मात्रा में जिलेटिन बरामद किया गया. महेशपुर थाना के रद्दीपुर ओपी के बघमोरा और पाकुड़िया थाना के राधानगर में अवैध पत्थर खदानों को चिह्नित किया गया है.

अवैध पत्थर खदान चलाने वालों की सूची भी जिला टास्क फोर्स के पदाधिकारियों को मिली है. ये सारे अवैध धंधे स्थानीय थाना के नाक के नीचे चलाए जा रहे थे. रद्दीपुर और पाकुडिया थाना पुलिस को इसकी जानकारी थी. लेकिन इनकी लापरवाही की वजह से वरीय पदाधिकारी अंधकार में थे. लेकिन जब वरीय पदाधिकारियों को इसकी सूचना मिली तब पदाधिकारियों की टीम को देख पत्थर और विस्फोटक माफिया फरार हो गए. लेकिन पुलिस को सभी के नाम हाथ लग गए.

जिला खनन पदाधिकारी उत्तम कुमार ने कहा कि सूचना मिली थी कि झारखंड और पश्चिम बंगाल की सीमा पर अवैध रूप से माइनिंग की जा रही है. जब छापेमारी की गई तब बारूद, अमोनियम नाइट्रेट और डेटोनेटर की रिकवरी हुई. वहीं पाकुड़ के डीएसपी नवनीत हेम्ब्रम ने कहा कि जिला टास्क फोर्स की तरफ से यह कार्रवाई की गई है. इस कार्रवाई के दौराना भारी मात्रा में विस्फोटक जब्त किए गए हैं. इस अवैध धंधे के पीछे जो लोग हैं उनके विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी. उन्हें पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकुड़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 5, 2018, 4:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर