अपना शहर चुनें

States

पाकुड़ में उम्मीदवारों ने पानी को मुख्य मुद्दा बनाया

पाकुड़ में पानी बना मुख्य चुनावी मुद्दा
पाकुड़ में पानी बना मुख्य चुनावी मुद्दा

पिछले दो बार के नगर निकाय चुनाव में भी सभी ने पानी को ही मुद्दा बनाया था. मगर पानी की समस्या का अब तक हल नहीं निकाला जा सका. पानी की समस्या ने विकराल रूप धारण कर लिया है.

  • Share this:
पाकुड़ में मुहल्ले की सरकार बनाने के लिए राजनीतिक पार्टियां चुनाव अभियान में जुट चुकी हैं. पार्टी प्रत्याशी सहित कई सारे निर्दलीय उम्मीदवार भी चुनाव में जीत का दावा कर रहे हैं. यानी नगर निकाय चुनाव की सरगर्मी तेज हो गई है.

नगर निकाय चुनाव में वोट मांगने वाले उम्मीदवारों को आम लोगों के सवालों का सामना करना पड़ रहा है. बिजली, पानी, सड़क निर्माण, गंदगी, होल्डिंग टैक्स, बिजली बिल के दरों में बढ़ोत्तरी के संदर्भ में पूछे गए सवालों के जवाब उम्मीदवारों को देने पड़ रहे हैं. वोट मांगते उम्मीदवार जनता के सवालों का जवाब देकर निकल जाते हैं. कोई सत्ता पक्ष पर ठिकरा फोड़ता है तो कोई विपक्षी पार्टी होने का रोना रोता है.

बता दें कि पानी के मामलों में पाकुड़ नगर का अधिकांश हिस्सा ड्राई जोन माना जाता है. प्रतिदिन वाटर सप्लाई की सुविधा आम लोगों को नगर में नहीं मिल रही है. पाकुड़ का लाईफ लाईन मानी जाने वाली सड़क हिरणपुर-पाकुड़-धलुयान पथ के किनारे नाला नहीं है. इस वजह से बारिश के दिनों में प्राय: घर, दुकान में पानी घुस जाया करता है. इस इलाके के लोग बारिश के मौसम पूरी तरह परेशान रहा करते हैं.



मालूम हो कि पाकुड़ में अध्यक्ष पद महिला के लिए सुरक्षित किया गया है. अध्यक्ष पद के लिए 7 उम्मीदवार हैं जबकि उपाध्यक्ष पद पर 13 उम्मीदवार हैं. वहीं वार्ड पार्षद के पद पर 94 उम्मीदवार अपना भाग्य आजमाने के लिए खड़े हुए हैं. इनकी किस्मत का फैसला 32 हजार मतदाता करेंगे. पाकुड़ नगर निकाय में कुल 21 वार्ड हैं. यहां मुख्य रूप से भाजपा, जेएमएम, कांग्रेस और आजसू ने उम्मीदवार खड़े किए हैं.
सभी उम्मीदवारों ने पानी को मुख्य मुद्दा बनाया है. पिछले दो बार के नगर निकाय चुनाव में भी सभी ने पानी को ही मुद्दा बनाया था. मगर पानी की समस्या का अब तक हल नहीं निकाला जा सका. पानी की समस्या ने विकराल रूप धारण कर लिया है. ऐसे में जीत चाहे जिस उम्मीदवार की हो, अगर पानी की समस्या खत्म नहीं हुई तो जनता एक बार फिर ठगा सा महसूस करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज