यहां स्कूल के बच्चे 1 किलोमीटर दूर से ढोते हैं पीने का पानी

Kundan Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 17, 2017, 11:36 PM IST
यहां स्कूल के बच्चे 1 किलोमीटर दूर से ढोते हैं पीने का पानी
यह नजारा है पाकुड़ के उत्क्रमित मध्य विद्यालय धवाडंगाल का.
Kundan Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 17, 2017, 11:36 PM IST
सरकार स्कूलों में बच्चों को हर संभव सुविधा दिए जाने की बात करती है. लेकिन पाकुड़ के पाकुड़िया में एक ऐसा विद्यालय है जहां छात्रों को खुद एक किलोमीटर दूर से पानी लाना पड़ता है. संबंधित अधिकारियों से इसकी बार-बार शिकायत करने के बावजूद इस समस्या का हल नहीं निकाला जा रहा है.

बता दें कि यह हाल है पाकुड़िया के उत्क्रमित मध्य विद्यालय धवाडंगाल का. यहां लगभग एक सौ बच्चे नामांकित हैं. स्कूल में पीने का पानी नहीं होने के कारण ज्यादातर बच्चे विद्यालय नहीं आते हैं. स्कूल में मिड डे मील तैयार करते समय पानी की समस्या उत्पन्न हो जाती है.

बच्चे बाल्टी को डंडा में फंसाकर पानी ढोने का काम करते हैं. विधायक निधि से चापाकल लगाया भी गया तो विद्यालय के निकट नहीं लगाया गया. पानी की भीषण समस्या को लेकर शिक्षकों ने कई बार विभागीय पदाधिकारियों को जानकारी दी. लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

इसी तरह पाकुड़ जिला को चार करोड़ रूपए से अधिक की राशि सरकार ने बेंच-डेस्क के लिए दी है. इसके बाबजूद विद्यालय में छात्रों को जमीन पर बैठकर ही पढ़ाई करनी पड़ती है. शिक्षक सुनील कुमार किस्कु ने कहा कि यहां पानी की घोर समस्या है. करीब एक किलोमीटर दूर से बच्चों को ही पानी लाना पड़ता है.
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर