अपना शहर चुनें

States

घर में शौचालय होने के बाद भी खुले में शौच

खुले में शौच नहीं करने के प्रति 
प्रशासन का लोगों को जागरूक करने का प्रयास
खुले में शौच नहीं करने के प्रति प्रशासन का लोगों को जागरूक करने का प्रयास

बीडीओ ने अपनी टीम के साथ महेशपुर के बासलोई नदी के किनारे घूम-घूम कर उन लोगों को पकड़ा जो खुले में शौच करते हैं. आश्चर्य की बात ये है कि घर में शौचालय रहने के बाद भी लोग खुले में शौच कर रहे हैं.

  • Share this:
पाकुड़ के महेशपुर में प्रशासन गुलाब फूल देकर उन लोगों को खुले में शौच करने से मना कर रहा है जो इसके आदि हैं. फिर भी लोग अपने ही क्षेत्र को स्वच्छ रखने के लिए अपनी तरफ से जरा भी कोशिश नहीं कर रहे हैं. अब प्रशासन ऐसे लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने में लग गया है. रैली निकाली जाएगी और इसके माध्यम से लोगों को साफ-सफाई के संदर्भ में बताया जाएगा.

इसी उद्देश्य से महेशपुर के बीडीओ ने अपनी टीम के साथ महेशपुर के बासलोई नदी के किनारे घूम-घूम कर उन लोगों को पकड़ा जो खुले में शौच करते हैं. आश्चर्य की बात ये है कि घर में शौचालय रहने के बाद भी लोग खुले में शौच कर रहे हैं. खास कर बालसलोई नदी के किनारे खुले में शौच करने की ग्रामीणों ने आदत डाल ली है. ग्रामीणों की इस आदत को महेशपुर के बीडीओ उमेश मंडल ने दूर करने के लिए सुबह-सुबह टीम के साथ भ्रमण करना शुरू कर दिया है. स्वच्छ महेशपुर बनाने के लिए प्रखंड प्रशासन ने संकल्प ले लिया है.

बीडीओ ने कहा कि स्वच्छता अभियान चलाया गया है. इसके तहत सुबह में उन क्षेत्रों में नजर रखी जाएगी जहां लोग खुले में शौच करते हैं. लोग शौचालय के लिए खुले स्थान में न जाएं इसके लिए लोगों को जागरूक करने के लिए फूल मालाएं दी जा रही हैं. बीडीओ ने कहा कि 12 बजे दिन एक जागरूकता रैली भी निकाली जाएगी जिसमें सभी माननीय लोग आमंत्रित हैं. स्वच्छता का पालन एक सौ प्रतिशत किए जाने के संबंध में सभी लोग अपना विचार रखेंगे. उन्होंने कहा कि खुले में शौच न करने और साफ सफाई करने की बात को हर कोई को संस्कार में डालना होगा, तभी यह अभियान सफल हो पाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज